November 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

श्रावणी मेले के आयोजन पर रोक का निर्णय कोर्ट की अवमानना : सांसद निशिकांत दुबे।

दुमका:- भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा) के वरिष्ठ नेता और गोड्डा के सांसद निशिकांत दूबे ने झारखंड सरकार द्वारा बाबा बैद्यनाथ धाम और बाबा बासुकीनाथ धाम में श्रावणी मेला के आयोजन पर रोक लगाने के निर्णय को न्यायालय और बाबा भोलेनाथ के विरुद्ध करार देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने उच्च न्यायालय का फैसला आने के पूर्व ही मेला आयोजित नहीं किये जाने का निर्णय लेकर न्यायालय के साथ बाबा बैद्यनाथ महादेव का अपमान किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व के ऐसे कई उदाहरण हैं कि बाबा के खिलाफ निर्णय लेने या बोलने वालों को गिरते मिटते देखा है। निकट भविष्य में राज्य सरकार की वर्तमान सरकार भी गिर जाय तो कोई आश्चर्य नहीं होगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के निर्णय से देश विदेश से श्रावणी मेला आनेवाले लाखों श्रद्धालु और पंडा समाज आहत हुए हैं ।श्री दूबे लाक डाउन की वजह से लगभग तीन महीने के बाद चार्टर प्लेन से गुरूवार को दुमका हवाई अड्डे पर उतरे। दुमका में मीडिया कर्मियों से बातचीत के क्रम में श्री दूबे हेमंत सोरेन सरकार द्वारा न्यायालय का फैसला आने के पूर्व श्रावणी मेला के संबंध में लिये गये निर्णय की आलोचना करते हुए कहा कि देवघर-बासुकीनाथ में श्रावणी मेला संचालित होने को लेकर कल 3 जुलाई को हाई कोर्ट में सुनवाई की तारीख निर्धारित है। उन्होंने कहा कि इसके पहले एक जुलाई को ही झारखंड सरकार ने श्रावणी मेला आयोजित नहीं करने का फैसला लेकर सीधे तौर पर यह हाईकोर्ट की अवमानना की है। उन्होंने कहा कि उनके अधिवक्ता न्यायालय में सरकार के फैसले को चुनौती देंगे। इसके साथ उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री और उनके सलाहकारों को संविधान और कानून की जानकारी नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि वे इस मामले में राज्य के मुख्य सचिव के खिलाफ भी प्रिविलेज लायेंगे। उन्होंने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार पर तुगलकी फरमान जारी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि समूचे देश के अधिकांश मंदिर खोल दिये गये हैं, लेकिन झारखंड सरकार के तुगलकी फरमान से राज्य के सभी मंदिर बंद है। उन्होंने कहा कि.राज्य सरकार को श्रावणी मेला आयोजित करने को लेकर बिहार सरकार सहित अन्य वर्ग के लोगों के साथ बैठक कर आम सहमति से ही निर्णय लिया जाना चाहिए था लेकिन इस दिशा में कोई पहल नहीं की गयी । राज्य सरकार को बाबा का प्रकोप झेलना पड़ेगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: