November 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कोरोना काल में श्रावणी मेला नहीं, श्रद्धालु कर सकेंगे वरचुअल दर्शन

झारखंड उच्च न्यायालय ने जनहित याचिका पर सुनाया फैसला

राँची:- झारखंड उच्च न्यायालय ने पवित्र सावन महीने में देवघर में लगने वाले श्रावणी मेले को लेकर शुक्रवार को अपने फैसले में कहा है कि कोरोना काल में श्रावणी मेला संभव नहीं है, लेकिन श्रद्धालुओं की आस्था को देखते हुए वर्चुअल (ऑनलाइन) दर्शन की व्यवस्था सुनिश्चित करने का आदेश दिया है।
उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डॉ0. रविरंजन और सुजीत नारायण प्रसाद की खंडपीठ ने यह फैसला सुनाया। बाद में महाधिवक्ता राजीव रंजन ने पत्रकारों को बताया कि अदालत ने मामले की सुनवाई के बाद शुक्रवार सुबह को भी राज्य सरकार से यह पक्ष जानने की कोशिश की, श्रावणी मेले को लेकर क्या संभव हो पाएगा। राज्य सरकार की ओर से सचिव अमिताभ कौशल ने कोर्ट को यह जानकारी दी कि कोरोना संक्रमण काल में श्रावणी मेला संभव नहीं है। जिसके बाद अदालत ने याचिका पर अंतिम फैसला सुनाते हुए कहा कि इस वर्ष श्रावणी मेले का आयोजन नहीं होगा, श्रद्धालु बाबा भोलेनाथ का ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। महाधिवक्ता ने बताया कि कोरोना को लेकर देशव्यापी लॉकडाउन के बीच भी मंदिर में पूजा-अर्चना जारी है, मंदिर बंद नहीं हुआ है, पुजारियों की ओर से पूजा अर्चना की जा रही है, सिर्फ श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगायी गयी है।
महाधिवक्ता ने बताया कि सावन महीने की शरूआत के साथ ही बाबा मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन दर्शन की सुविधा उपलब्ध होगी, इसके लिए सरकार और प्रशासन की ओर से समय रहते सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली जाएगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: