November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

अब्दुल कयूम अंसारी तथा हवलदार अब्दुल हमीद की जयंती संयुक्त रूप से मनाई गई

राँची:- अंसारी महापंचायत ने आज रांची स्थित हटिया के हेसाग में महान स्वतंत्रता सेनानी एवं मोमिन कॉन्फ्रेंस के पूर्व अध्यक्ष अब्दुल कयूम अंसारी और भारत के परमवीर चक्र विजेता हवलदार अब्दुल हमीद की संयुक्त रूप से जयंती मनाई। समारोह की अध्यक्षता महापंचायत के केंद्रीय अध्यक्ष प्रोफेसर रिजवान अली अंसारी ने की ।इस अवसर पर महापुरुषों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रोफेसर रिजवान अली ने कहा कि अगर आज भी चीन के खिलाफ बहुजन मुसलमानों की जरूरत पड़ी तो हम हवलदार अब्दुल हमीद बनकर चीन से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं ।उन्होंने कहा कि परमवीर चक्र विजेता अब्दुल हमीद ने 1962 में चीन के खिलाफ और 1965 में पाकिस्तान के खिलाफ जो युद्ध लड़ा और वीरगति प्राप्त किया उससे संबंधित पूरी घटना अजर अमर है।
महान स्वतंत्रता सेनानी अब्दुल कयूम अंसारी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रो रिजवान ने कहा कि अब्दुल कयूम अंसारी द्विराष्ट्र सिद्धांत के सबसे बड़े विरोधी थे ।जिस पर अगर पंडित नेहरू विचार करते तो आज उपमहाद्वीप की यह हालत और संकट नहीं होता ।

आज की बैठक में अंसारी महापंचायत के उपाध्यक्ष रियासत अंसारी ने कहा कि झारखंड में पिछड़ी जातियों के लिए 14% की जगह 27% आरक्षण हेमंत सोरेन जी को दे देना चाहिए ।उन्होंने अपने घोषणा पत्र में जो वादा किया था।

आज की बैठक में महासचिव मेराज अंसारी ने कहा कि रंगनाथ मिश्रा कमीशन के आधार पर मुसलमानों के बीच अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षण सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

आज की बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि बिहार चुनाव में अंसारी महापंचायत किसी भी राजनीतिक दल को सपोर्ट नहीं करेगी और ना ही किसी भी राजनीतिक दल पर अंसारी महापंचायत अपना उम्मीदवार के लिए दबाव डालेगी ।अगर ऐसा कोई करता है तो उस पर महापंचायत सख्ती से कार्रवाई करेगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: