November 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

संताल क्रांति झारखंड के हितों की रक्षा में बड़ी भूमिका निभायी : रामेश्वर उरांव

हूल दिवस पर कार्यशाला का आयोजन

राँची:- झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के नेतृत्व में संताल हूल दिवस पर कांग्रेस भवन में एक सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार का उद्घाटन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव ने दीप प्रज्ज्वलित कर एवं सिद्ध-कान्हू तथा चांद भैरव के चित्र पर माल्यार्पण किया एवं नमन किया। सेमिनार में मुख्य वक्ता के रूप में महान शिक्षाविद् तथा जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के इतिहास के पूर्व विभागाध्यक्ष डॉ जेम्स बाड़ा तथा आदिवासी बृद्धिजीवी मंच के अध्यक्ष पीसी मुर्मू ने अपने उद्गार प्रकट किया।
सेमिनार में उदगार प्रकट करते हुए प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि अंग्रेजी हुकुमत के खिलाफ, महाजनी प्रथा के खिलाफ, शोषण से मुक्ति, सुदखोरी से संघर्ष, जल, जंगल जमीन की रक्षा के लिए संथाल के आदिवासियों ने हूल विद्रोह क्रांति किया और सिद्धू-कान्हू लड़ते हुए शहीद हो गये। विद्रोह के साथ जो सीएनटी, एसपीटी कानून बना जो आदिवासी दलित, पिछड़ों के जमीन की रक्षा के लिए बना। 1935 में इंडिया एक्ट में भी यह उल्लेख है कि बाहर से आने वाले लोग आदिवासियों की जमीन लेते है इसलिए संविधान में जमीन को बचाने की बात कही गई है।
डॉ रामेश्वर उरांव ने कहा कि जिन लोगों ने भी जमीन को छूने की कोशिश की बैलेट के माध्यम से उन्हें बाहर का रास्ता दिखा गया है। सोनिया गांधी जी के नेतृत्व में भूमि अधिग्रहण कानून चलते हमारी जमीन बची। संथाल क्रांति के बाद बहुत बड़ा बदलाव सोनिया गांधी के नेतृत्व में किया गया, जिसमें भाजपा भूमि अधिग्रहण कानून में संशोधन करने की कोशिश की लेकिन विफल रहे।
शिक्षाविद जोसेफ बाड़ा ने कहा कि आदिवासियों के इतिहास के बारे में जो भी जानकारी रखते है तो स्वतंत्रता संग्राम के पूर्व आदिवासियों ने अंग्रेजों खिलाफ आंदोलन शुरू किया था। अंग्रेजों का शोषण, अत्याचार हर जगह व हर क्षेत्र में था इसलिए आंदोलन शुरू हुआ। हमारी जल, जंगल जमीन को सुदखोरो के माध्यम से अंग्रेजी हुकुमत लगान, टैक्स मांगती थी। हमने बाघ के जबड़ो से हमारी जमीन वापस छीनी है, इसलिए हम आज भी अपने प्रियजनों को जमीन में गाड़ते हैं ताकि उनकी आत्मा हमारे साथ रहे। अंग्रेज जैसे शातिर चतुर, राजनैतिक जिसका काम सिर्फ देश को कंगाल करना था।
शिक्षाविद पीसी मुर्मू ने कहा कि 175 साल पहले एक क्रांति हुई थी और 30 जून को ही आखिर क्यों हुई, 1855 में अंग्रेजों के खिलाफ आदिवासियों ने विगुल फूंका था, जमीन और आदिवासियों के अस्तित्व की लड़ाई भी हुल दिवस, जल जंगल जमीन को लेकर उस समय के लड़ाई को हुल कहते थे। आज के लड़ाई को जन आंदोलन कहते हैं।
आलमगीर आलम ने कहा कि हुल दिवस को हम हमेशा से मनाते रहे हैं। 175 साल पूवर्स् बरहेट के भोगनाडीह से अपनी अस्मिता की रक्षा के लिए 400 गांवों के 50 हजार लोगों ने कहा था करो या मरो अंग्रेजों माटी छोड़ो का नारा दिया था और विद्रोह किया अपने शहादत दी हमारी सरकार की यही कोशिश है कि सिद्धू-कान्हू के विचारों को आत्मसात करें।
बन्ना गुप्ता ने कहा कि 1832 में ही हुल आंदोलन हुआ था, अंग्रेजों ने सूदखोरो के माध्यम से बंगाल प्रेसिडेंसी से चलने वाली अंग्रेजी व्यवस्था ने ऐसी न खत्म होने वाली व्यवस्था लागू कर दी जिसको लेकर आदिवासियों ने शंखनाद किया और कई हजारो लोगों ने शहादत दी। हमें चिंतन मनन करना होगा कि हमारे क्रांति को इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान क्यों नहीं मिला।
पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि आदिवासियों द्वारा किये गये संथाल विद्रोह में उन योद्धाओं के संघर्ष गाथा को याद करके मन गौरवान्वित हो जाता है। आदिवासी समाज कभी भी शोषण और लूट के खिलाफ कोई समझौता नहीं किया।
सेमिनार में विधायक दल के नेता सह मंत्री आलमगीर आलम, बन्ना गुप्ता, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, संथाल हुल दिवस कार्यक्रम के संयोजक अनादि ब्रहम, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, संजय लाल पासवान, विधायक दीपिक पांडेय सिंह, नमन विक्सल कोंगाड़ी, राजेश कच्छप प्रो वीपी शरण, प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, डॉ राजेश गुप्ता छोटू, राजीव रंजन प्रसाद मुख्य रूप से उपस्थित थे।
आयोजन समिति के संयोजक अनादि ब्रहम ने अभिनंदन करते हुए विषय वस्तु प्रवेश किया तथा कहा कि देश की स्वतंत्रता आंदोलन के पूर्व 1885 में भोगनाडीह में सामनत वाद, महाजनी प्रथा के खिलाफ चारो भाईयों के नेतृत्व में 50 हजार लोगों ने एक साथ आंदोलन किया।
कार्यक्रम का संचालन कांग्रेस नेता व आयोजन समिति के सदस्य अमूल्य नीरज खलखो ने किया जबकि धन्यवाद ज्ञापन प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश ने किया। कार्यक्रम में कुमार गौरव, शकील अख्तर अंसारी, गुंजन सिंह, नेली नाथन, चैतु उरांव, सतीष पॉल मुंजनी, नियल तिर्की, सन्नी टोप्पो, शशिभूषण राय, डॉ विनोद सिंह, जगदीश साहु, दिनेश लाल सिन्हा, अमिताभ रंजन, कंचन कुमारी, पिंकी सिंह, जितेन्द्र सिंह, सुषामा हेम्ब्रम, मौसमी मिंज, अजय सिंह, अर्चना मिश्रा, प्रभात कुमार, वारिश कुरैशी, अख्तर अली,पंचू तिर्की, हेमा मिंज, जोसेफ विजय सिंह, सुखदेव सिंह सहित सैकड़ो कांग्रेसजन उपस्थित थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: