November 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

दृष्टि दिव्यांग जनों के लिए ऑनलाइन काउंसलिंग का आयोजन किया गया।

राँची:- कहते हैं सूचनाएं जीवन बदल सकती हैं इसी बात को ध्यान में रखते हुए बुक्सशेयर इंडिया ,इनेबल इंडिया और झारखंड की संस्था लक्ष्य फॉर डिफरेंटली एबल्ड के संयुक्त तत्वाधान में दृष्टि दिव्यांगजन के लिए एक ऑनलाइन केरियर काउंसलिंग सेमिनार का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में विशेषज्ञों ने दृष्टि दिव्यांग जनों के कैरियर संबंधी विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार और अनुभव शेयर किए । इनका मानना था कि सरकारी नौकरियां ही सिर्फ स्वालंबन का एक माध्यम नहीं बन सकती ऐसी नौकरियां सीमित मात्रा में है। अगर हम दृष्टिबाधित लोगों को निजी क्षेत्रों के जरूरतों के अनुसार तैयार करें तो उन्हें निजी क्षेत्रों में भी समावेशित किया जा सकता है।
निजी क्षेत्र में बहुत सारे ऐसे कार्य हैं जो दृष्टिबाधित लोग भी कर सकते हैं बशर्ते कार्यों के अनुसार उनके कौशल विकास व संप्रेषण कला विकास की जरूरत है।
विशेषज्ञों ने दृष्टि बाधित लोगों के द्वारा किए जाने वाले विभिन्न कार्यों के बारे में विस्तृत जानकारी दी और उसके लिए क्या-क्या योग्यताएं होनी चाहिए इस पर भी प्रकाश डाला। इनका मानना था कि सरकारी या निजी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करना ही बड़ी उपलब्धि नहीं है पर रोजगार प्राप्त करने के बाद एक प्रोडक्टिव वर्क फोर्स के रूप में ऐसे लोगों को तैयार करना पूरे देश समाज और संगठनों की जिम्मेवारी ह।
दृष्टि दिव्यांगता के प्रति समाज के हर स्तर पर संवेदनशीलता एवं जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है ताकि सकारात्मक सोच का विकास हो और सामाजिक स्वीकार्यता और आर्थिक स्वालंबन एक साथ आए। जागरूकता के अभाव में लोग पूर्वाग्रह का शिकार बनते हैं और इनकी क्षमताओं को पहचान नहीं पाते हैं। दिव्यांग जनों के कौशल विकास के लिए कार्य संस्थान हुआ हेल्पलाइन नंबर के बारे में भी जानकारी दी गई ताकि कैरियर संबंधी मार्गदर्शन प्राप्त किया जा सके।

बुक शेयर इंडिया की तरफ से डॉक्टर होमीयार, इनेबल इंडिया की तरफ से रितु सारंगी और लक्ष्य फॉर डिफरेंटली की तरफ से श्री अरुण कुमार सिंह और झारखंड साइट सेवर की तरफ से असित बहेरा ने अपनी प्रस्तुति दी।

Recent Posts

%d bloggers like this: