November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

डॉ. मुखर्जी राष्ट्र की एकता एवं अखंडता के सच्चे प्रतीकः रघुवर

जमशेदपुर:- भारतीय जनसंघ के संस्थापक, प्रखर राष्ट्रवादी डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के 67वें पुण्यतिथि को बलिदान दिवस के रूप में स्मरण करते हुए राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मंगलवार को कार्यकर्ताओं के संग एग्रिको स्थित आवास पर डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि भारत की एकता, अखंडता, अस्मिता और संस्कृति की अभिलाषा के स्वप्नों के लिए आजाद भारत के पहले बलिदानी डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन गाथा सभी देशभक्तों को राष्ट्र की अस्मिता एवं सुरक्षा के लिए बलिदान होने की प्रेरणा देती है। एक राष्ट्र में दो निशान, दो प्रधान, दो विधान चलाने वाले जवाहरलाल नेहरू एवं शेख अब्दुल्ला जैसे पथ भ्रष्ठ शासकों को ऐतिहासिक चुनौती देने वाले डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने देश की अखंडता बनाए रखने में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। उन्होंने कहा कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने न सिर्फ स्वतंत्र भारत का सपना अपनी आँखों में सँजोया बल्कि एक अखंड और संप्रभु भारत के सपने को साकार करने के लिये अपना जीवन-सर्वस्व समर्पित कर दिया। राष्ट्र के लिए त्याग, बलिदान, समर्पण, संघर्षशीलता, संगठन-कार्य और बौद्धिक-वैचारिक जैसे विशिष्ट गुण उन्हें स्वाधीन भारत का महानायक बनाते हैं। कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने करोड़ो देशवासियों के सपनों को साकार करते हुए धारा 370 और 35 ए समाप्त कर डॉ. मुखर्जी को सच्ची श्रद्धांजलि दी है, डॉ मुखर्जी की आत्मा आज प्रसन्न होगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: