November 30, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

क्या सचमुच हमारे सैनिकों को चीन ने बंदी बनाया था?

NDTV एवं अन्य समाचार एजेंसियों के माध्यम से एक जानकारी साझा किया गया कि चीन ने हमारे चार अफसर सहित दस जवानों को रिहा किया । हालांकि जब आप अंतर्राष्ट्रीय अखबारों के आलेख को पढ़ेंगें तो एक विपरीत स्थिति को पाएंगे । अलजजीरा एवम् अन्य विदेशी अखबारों के अनुसार चीन द्वारा कभी किसी भारतीय सैनिकों को बंदी नहीं बनाया गया ।

हम जानते हैं कि आपका दिमाग भन्ना गया होगा कि असल में सच क्या है । इसलिए हम आपके लिए यह पुरी गुत्थी परत दर परत खोल देते हैं । चलिए, शुरू करते हैं :-

भारत पिछले कुछ सालों से चीन बार्डर के आस पास सड़क एवं अन्य जरुरी संरचना बना रहा है । सारी संरचना चीन के नजर में शुरु से खटक रहा था और यदा कदा चीन इसका विरोध भी करता आ रहा है । चीन के लिए समस्या और बढ़ गई जब भारत लद्दाख के आस पास के आधारभूत संरचना को मजबूत करने लगा । चीन को यह डर है कि भारतीय सैना जो कि पहाड़ों में लड़ने में माहिर है, अगर उनकी मदद के लिए सड़क अच्छी हो तो चीन के सामने भारत चुनौती पेश कर सकता है ।

इनमें से एक महत्वपूर्ण सड़क है दरबुक श्योक दौलत बैग ओल्डी रोग जिसका जिक्र अक्सर हो जाता है । गलवान घाटी में LAC के समांतर 255 किमी लम्बी सड़क हर मौसम में काम आनेवाली सड़क है, जो एयर स्ट्रीप से लैस है । चीन को डर है कि भारत अपने बार्डर से सटी सड़कों को मजबूत करके अपने खोये हुए हिस्सों को वापस से छीन सकता है । चीन इसके कारण कई बार विरोध जता चुका है ।

चीन ने इसी के मद्देनजर भारतीय सीमा के आसपास 5000 सैनिकों को तैनात किया था ताकि वो भारत पर काम रोकने के लिए दबाव बना सके । भारत- चीन के झड़प का दुसरा कारण आपसी सहमति से बने मानचित्र का आभाव भी है । दोनो देश एक दुसरे के अलग अलग क्षेत्रों को अपना मानते हैं जिसके कारण मतभेद होता रहता है ।

15-16 जुन को यह मतभेद हिंसक हो गया और चीनी सेना ने कायरता पुर्वक हमारी सेना पर हमला किया और हमारे 20 जवान बहादुरी के साथ लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए और कई जवान घायल भी हुए। इसी झड़प में चीन के 43 सैनिक भी मारे गये । कल दिनांक 19 जुन को हिन्दूस्तानी अखबारों में छपे खबरों के अनुसार चीन ने हमारे 10 सैनिकों को बंदी बना लिया था जिन्हें उच्चस्तरीय बातचीत के बाद छोड़ा गया । हालांकि चीन ने अधिकारिक तौर पर यह कहा कि उन्होंने किसी भारतीय सैनिकों को बंदी नहीं बनाया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: