December 3, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में झारखंड के लाल कुंदन ओझा ने दिया सर्वोच्च बलिदान

राँची:- लद्दाख बॉर्डर पर गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में झारखंड निवासी कुंदन कुमार ओझा ने अपना सर्वोच्च बलिदान दिया है। आर्मी के जवान कुंदन कुमार ओझा साहिबगंज के रहने वाले हैं।

साहिबगंज जिले के मिर्जाचौकी थाना क्षेत्र के डिहारी गांव के रहने वाले कुंदन कुमार ओझा के पिता रविशंकर ओझा एक किसान हैं। शहीद ओझा के दो भाई और एक बहन है। शहीद कुंदन ओझा की शादी दो साल पहले सुल्तानगंज में हुई है और उनकी एक महीने की एक बेटी है। शहीद ओझा की बहाली 2011 में बतौर आर्मी के जवान में हुई थी। फिलहाल वे लद्दाख के लेह में तैनात थे।

झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने भी सेना के जवान को श्रद्धांजलि दी है । उन्होंने कहा कि जानकारी मिली कि सीमा पर कुछ तनाव हुए हैं जिसमें कुछ देश के जवान शहीद हुए हैं. सभी को श्रद्धासुमन अर्पित करता हूं।
उन्होंने कहा कि एक जवान झारखंड से संबंध रखता है उनके प्रति भी संवेदना रखता हूं. हालिया मिली जानकारी में भारत-चीन सीमा पर झड़प में 20 जवान शहीद हो गए हैं. जबकि चीनी सेना के 43 जवान शहीद हुए हैं. ज्यादातर जवान बिहार रेजिमेंट के हैं. गलवान वैली में भारत-चीन सीमा पर माहौल अभी भी तनातनी वाला है.

Recent Posts

%d bloggers like this: