November 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

साहिबगंज बंदरगाह में अडानी जहाजों के प्रवेश पर हेमंत सरकार ने लगाई रोक

साहिबगंज:- जल मार्ग से राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए साहिबगंज मे 300 करोड़ की लागत से बने मल्टी मॉडल टर्मिनल में सरकार ने कंपनियों के जहाजों के परिचालन पर रोक लगा दी है। इस आदेश से केंद्र व राज्य सरकार आमने-सामने हैं। भारतीय- अंतरदेशीय जलमार्ग प्राधिकरण ने विभागीय अधिकारियों को सरकार के इस फैसले से अवगत कराया है। प्राधिकरण तथा झारखंड सरकार के परिवहन विभाग केपदाधिकारियों के बीच मंगलवार इस मसले पर रांची में बैठक होगी।

तीन दिनों से खड़े हैं जहाज

अडाणी लॉजिस्टिक, जय बजरंग बली स्टोन वर्कस, कैंब्रिज कंस्ट्रक्शन लिमिटेड, वर्सेल शिपिंग सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड समेत कई कंपनियों के जहाज साहिबगंज बंदरगाह में चार दिनों से खड़े हैं। ध्यान देने वाली बात यह भी है कि इसी आदेश के अंतर्गत बिहार के कटिहार जिले के मनिहारी और झारखंड के साहिबगंज के बीच चलनेवाली फेरी सेवा (मालवाहक) पर भी रोक लगा दी गई है।

झारखंड राज्य के परिवहन सचिव रवि कुमार के निर्देश पर साहिबगंज के उपायुक्त वरुण रंजन ने यह आदेश जारी किया है, जबकि दूसरी ओर टर्मिनल से इतर गंगा कोसी नाव यातायात सहयोग समिति लिमिटेड की ओर से फेरी सेवा (मालवाहक) का संचालन बदस्तूर चल रहा है।

बता दें कि साहिबगंज में फेरी सेवा सालों से संचालित है। इससे झारखंड सरकार को राजस्व की प्राप्ति होती है। टर्मिनल से जहाजों के संचालन से झारखंड को राजस्व का नुकसान होगा। हालांकि, परिवहन सचिव के. रवि कुमार ने कहा है कि भारतीय अंतरदेशीय जलमार्ग प्राधिकरण के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर जल्द ही विवाद को सुलझा लिया जाएगा।

दरअसल हल्दिया से बनारस तक गंगा नदी को राष्ट्रीय जलमार्ग-1 घोषित किया गया है। इसके लिए साहिबगंज में टर्मिनल का निर्माण हो चुका है। टर्मिनल बनने के बाद जलमार्ग प्राधिकरण ने चार कंपनियों को साहिबगंज से मनिहारी के बीच मालवाहक जहाजों के परिचालन को अनापत्ति प्रमाणपत्र दिया। इस पर संथाल परगना के आयुक्त के अलावा साहिबगंज के अपर समाहर्ता व कटिहार जिले के समाहर्ता ने अपनी सहमति जताई ।

इसके बाद जय बजरंग बली स्टोन वर्क्‍स की ओर से मालवाहक जहाजों का परिचालन सकरी-गली समदा तथा गरम घाट से शुरू किया गया है। इधर परिचालन की सूचना मिलने पर उपायुक्त ने एक आदेश निकाला। इसमें कहा गया कि टर्मिनल के अलावा कहीं और से जहाजों के परिचालन को अवैध माना जाएगा। आदेश के बाद भी जय बजरंगबली स्टोन वर्क्‍स की ओर से जहाजों का परिचालन किया जा रहा था। तब परिवहन सचिव के निर्देश के आलोक में उपायुक्त ने 11 जून को आदेश निकालकर चारों कंपनियों को दी गई अनुमति को स्थगित कर दिया।

पिछले माह से टर्मिनल से कटिहार के मनिहारी के बीच मालवाहक जहाजों का परिचालन हो रहा था। साहिबगंज उपायुक्त के नए निर्देश के बाद जहाजों का परिचालन ठप हो गया है। सभी जहाज खड़े हैं। विभागीय अधिकारियों को अवगत कराया है। मामले को जल्द सुलझाने का प्रयास चल रहा है।

Recent Posts

%d bloggers like this: