December 3, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पश्चिमी सिंहभूम, चाईबासा जिला के धरती पर पहली बार डेंटल सर्जरी होगा प्रारंभ

जिले के सदर अस्पताल एवं चक्रधरपुर स्थित अनुमंडल अस्पताल में दंत रोग से जुड़े अत्याधुनिक यंत्र किये गये स्थापित

चाइबासा:- वैश्विक महामारी कोविड-19 के इस संकटकाल में पश्चिमी सिंहभूम जिला वासियों के लिए हर्ष की बात है कि दंत रोग से जुड़े किसी भी समस्या या इसके इलाज के लिए अब जिले वासियों को जिले से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। इसके लिए चक्रधरपुर के विधायक श्री सुखराम उरांव के द्वारा अपने विधायक मद से तथा सदर अस्पताल, चाईबासा में अस्पताल मद में उपलब्ध राशि से दंत चिकित्सा के इलाज से जुड़ी अत्याधुनिक मशीनें क्रय की गई हैं तथा उक्त दोनों अस्पतालों में इसे स्थापित भी किया गया है। अस्पतालों में अत्याधुनिक मशीनों की उपलब्धता से सदर अस्पताल चाईबासा में पदस्थापित दंत चिकित्सक डॉ आनंद शिंदे तथा चक्रधरपुर अनुमंडल अस्पताल में पदस्थापित दंत चिकित्सक डॉ दीक्षा शिंदे का कहना है कि इलाज हेतु आवश्यक यंत्र उपलब्ध होने से दंत रोग से जूझ रहे व्यक्तियों को जिले में बेहतर इलाज व्यवस्था सुनिश्चित होगी।

सदर अस्पताल चाईबासा में पदस्थापित दंत चिकित्सक डॉ शिंदे बताते हैं कि हाल ही में सदर अस्पताल चाईबासा एवं अनुमंडल अस्पताल, चक्रधरपुर में नया डेंटल चेकअप चेयर लगा है, जिससे जिले में अब बहुत सारी दंत चिकित्सा की सुविधाएं दी जा सकती हैं यथा दांत की सफाई, दांत को निकालना, दांतों में मसाला भरवाना आदि।उन्होंने बताया कि जिले वासियों को दंत चिकित्सा से जुड़े बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने हेतु एक नया एक्सरे मशीन भी स्थापित किया गया है, जिससे दांतों के एक्स-रे की सुविधा भी अब उपलब्ध है।

पहले उपलब्ध नहीं थीं यह सुविधाएं

डॉ शिंदे बताते हैं कि पूर्व में इन अत्याधुनिक यंत्रों की उपलब्धता नहीं थी, लेकिन इन मशीनों के आने से दंत रोग से जूझ रहे लोगों को अब ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा और इलाज के लिए उन्हें अब जिले से बाहर कहीं नहीं जाना पड़ेगा। अब सारी सुविधाएं हमारे सदर अस्पताल, चाईबासा तथा अनुमंडल अस्पताल, चक्रधरपुर में उपलब्ध हैं।

सरकार से प्राप्त एडवाइजरी के अनुसार प्रारंभ होगी चिकित्सा

डॉ शिंदे ने बताया कि चूंकि सरकार से प्राप्त गाइडलाइन के अनुसार अभी सिर्फ इमरजेंसी ही देखना है और ओपीडी संचालित करना है जिसके तहत् डेंटल ओपीडी पूरी तरह से क्रियान्वित है लेकिन किसी दूसरे तरह का इलाज सरकार के द्वारा आगे प्राप्त एडवाइजरी के बाद ही शुरू कर पाएंगे। उन्होंने बताया कि *सभी सामग्री एवं मशीनें हमारे पास आ चुकी हैं तथा जैसे ही हमें कोई निर्देश प्राप्त होता है कि इलाज प्रारंभ करना है तो यह सारी सुविधाएं दंत मरीजों को उपलब्ध होगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: