November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पुलिस ने मृतक के परिजनों की आर्थिक मदद कर मिसाल पेश की

दुमका:- झारखंड में दुमका जिले के नक्सल प्रभावित गोपीकांदर थाना के क्षेत्र के लखीबाद गांव में बीते शनिवार को अज्ञात अपराधियों द्वारा पत्थर से कुचल कर एक व्यक्ति की हत्या से पीड़ित परिवार को सोमवार को पुलिस ने खाद्य सामग्री एवं आर्थिक सहायता देकर मिसाल पेश की । जिले के गोपीकांदर के थाना प्रभारी मनोज कुमार राय ने तलबेड़िया गांव जाकर निजी स्तर से अज्ञात अपराधियों द्वारा पत्थर से कुचल कर हत्या किये गये 32वर्षीय मृतक बैनेजर किस्कू के परिवार को ढांढस बंधाया और खाद्य सामग्री के साथ आर्थिक मदद की। बैनेजर घर में एक मात्र कमाने वाला था। वह अपने पीछे पत्नी सहित चार मासूम बच्चे को असहाय छोड़ गया है। थाना प्रभारी ने मृतक की पत्नी महेश्वरी बासकी को बोरी चावल और नगद राशि पीड़ित परिवार को देने के साथ आश्वस्त किया कि पुलिस प्रशासन परिवार को जरुरत पड़ने पर हर समय आगे भी यथा संभव मदद करेगा। मालूम हो कि बीते 30 मई शनिवार की रात को थाना क्षेत्र के लखीबाद गांव के बाहर अज्ञात अपराधियों द्वारा बैनेजर किस्कू का सिर पत्थर से कूचकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बारे में थाना प्रभारी मनोज कुमार राय ने बताया कि मृतक की पत्नी एवं बहन के फर्द बयान पर गोपीकांदर थाना में कांड संख्या 17/2020,भादवि की 302, 34 के तहत अज्ञात अपराधियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर पुलिस अनुसंधान में जुट गयी है। बैनेजर किस्कू के परिवार में पत्नी सहित एक लड़की एवं तीन छोटे-छोटे बेटे हैं जबकि मृतक बैनेजर किस्कू परिवार का इकलौता कमाऊ सदस्य था जिसके ना रहने से परिवार दर-दर भटकने को मजबूर हो गया हैं।
ग्रामीणों के झगड़ों में सुलह करवाता था बैनेजर
जानकारी के मुताबिक बैनेजर किस्कू अपने आसपास के इलाके में सर्वप्रिय था और अपन मुसना पंचायत में ग्रामीणों के बीच आपसी झगड़ा-झंझट को आपस में सुलह समझौता कराकर मामले को निपटाने का प्रयास करता था । ग्रामीणों के लिए नेक इंसान के रूप में कार्य करता था। ग्रामीणों के अनुसार वह ग्रामीणों और पुलिस के बीच मध्यस्थता कर गरीबों को राहत पहुंचाता था।

प्रेम-प्रसंग में हत्या किये जाने की संभावना
सूत्रों की माने तो बैनेजर किस्कू मुसना गांव के एक युवती के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा था आशंका यह भी बताया जा रहा है कि प्रेम-प्रसंग में ही बैनेजर की हत्या की गई हो और उसके कपड़े उतार कर हत्या का दूसरा रूप देने का प्रयास किया गया हो घटनास्थल और बैनेजर का घर की दूरी करीब सात किलोमीटर होगी और मुसना गांव से करीब तीन किलोमीटर की दूरी है। थाना प्रभारी मनोज कुमार राय ने जब ग्रामीणों से पूछताछ की तो ग्रामीणों ने यह कहकर पलड़ा झाड़ दिया कि हटिया शाम साढ़े पांच बजे उठा ली गई थी । उसके बाद यहां कोई मौजूद नहीं था। लेकिन पुलिस को प्रखंड के जनप्रतिनिधियों ने बताया कि बैनेजर और उसका बाद मोबाइल पर रात 8 बजे हुई थी, लेकिन बैनेजर कहां था उसने नहीं बताया था।
बगैर अनुमति के लगायी जाती है देसी शराब की हाट
जिस स्थान पर बैनेजर किस्कू की हत्या की गई है वहां बगैर किसी अनुमति के देसी शराब की हटियाँ लगाया जाता है। यह हटिया पहले दुर्गापुर-खरौनी बाजार मुख्य मार्ग के किनारे लगाया जाता था। लेकिन देशव्यापी लॉक डाउन में जगह थोड़ा बदलते हुए झाड़ियों की ओर लेकर गया। यह हटिया शनिवार को लगाया जाता है। इस हटिया में देसी शराब के अलावे उसके साथ खाने वाले तरह-तरह के नाश्ता सहित अन्य सामान परोसा जाता है। बताया जाता है कि लखीबाद गांव के कुछ लोगों द्वारा इस हटिया में लगने आने वाले दुकानों से टैक्स वसूल करते हैं। इसके बाद इन्हें दुकान लगाने की अनुमति दी जाती है।

Recent Posts

%d bloggers like this: