December 6, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

फलदार पौधे के साथ सागवान, महुगुनी,सखुआ व गम्भार के भी पेड़ लगाये जाएं-बाबूलाल

राँची:- भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि झारखंड में मनरेगा से मुख्यमंत्री हरित ग्राम योजना के तहत फलदार पौधों का रोपण कराया जा रहा है। इस योजना के पीछे सरकार की मंशा प्राकृतिक संसाधनो के माध्यम से कम पूंजी की लागत में लोगों को रोजी-रोटी की स्थाई व्यवस्था मुहैया कराना है। निश्चित तौर पर सरकार का यह कदम प्रशंसा के योग्य है।
उन्होंने कहा कि जानकारी के अनुसार 660 करोड़ रूपये खर्च कर सरकार की कार्य योजना प्रति वर्ष लगभग 40 लाख पौधे लगाने की है। एक यूनिट में आम, अमरूद, नींबू, सहजन आदि के निर्धारित 100 पौधे लगाने हैं।
बाबूलाल मरांडी कहा कि इस संबध में सुझाव है कि फलदार पौधों के साथ-साथ सागवान, महुगुनी, सखुआ, गम्भार, बांस आदि पौधों को भी लगाने की दिशा में पहल होनी चाहिए। जब फलदार पौधे लगाए ही जा रहे हैं तब इसी के साथ इन पौधों को लगाने से इसके दूरगामी परिणाम से कतई इंकार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि झारखंड की धरती इन पौधों के लिए काफी उर्वरक है। यह पौधे किसानों के लिए वरदान साबित होंगे। इमारती, फर्नीचर एवं फर्नीचर की लकड़ियां दूसरे देशों से आयात भी होती हैं। ऐसा होने पर इनके लिए झारखंड की निर्भरता भी दूसरे देशों पर कम होगी। साथ ही इससे रोजगार को भी बढ़ावा मिलेगा। वहीं हमें सभी पौधों के रख-रखाव पर विशेष ध्यान देनी होगी। अक्सर होता है कि पौधे लगने के बाद उसके रख-रखाव की ओर समुचित ध्यान नहीं देने से योजना का उद्देश्य अधूरा रह जाता है। महत्वपूर्ण यह होता है कि अगर 100 पौधे लगाए गएं तो उसमें कितने जीवित रह पाते हैं। रख-रखाव की जिम्मेवारी सुनिश्चित करना आवश्यक है। राज्य में काफी बंजर भूमि है, सरकार को इसका सदुपयोग करना चाहिए।

Recent Posts

%d bloggers like this: