November 25, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

वित्तीय अनियमितता व घोटाले मामले में एसीबी की छापेमारी

जरेडा कार्यालय में फाइलों को खंगाला, पूर्व निदेशक निरंजन के खिलाफ सबूत एकत्रित करने की कोशिश

राँची:- कारोड़ों रुपये के वित्तीय अनियमितता और घोटाले से जुड़े मामले में साक्ष्य एकत्रित करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने शुक्रवार को रांची के डोरंडा स्थित जरेडा कार्यालय में छापेमारी की। एसीबी के डीएसपी के नेतृत्व में की गयी छापेमारी में घोटाले से संबंधित फाइलों को खंगाला गया और पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के ई-मेल आईडी, आवास समेत अन्य निजी कंपनियों को एकत्रित करने की कोशिश की गयी।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छानबीन के दौरान एसीबी ने घोटाले से संबंधित कई फाइलों को जब्त कर लिया है, वहीं करोड़ों रुपये की वित्तीय अनियमितता को लेकर आवश्यक साक्ष्य एकत्रित करने के लिए कई लोगों से जानकारियां भी हासिल करने की कोशिश की गयी।
गौरतलब है कि जरेडा के पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के खिलाफ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जांच का आदेश दिया था। इसके बाद एसीबी की टीम ने गुरुवार को प्रारंभिक जांच दर्ज की थी। करीब 170 करोड़ रुपये के घोटाले को लेकर एसीबी ने निरंजन कुमार ने खिलाफ प्रारंभिक जांच दर्ज की थी। इंडियन पोस्ट एंड टीसी एकाउंटेंस एंड फाइनेंस सर्विस के अधिकारी निरंजन कुमार के खिलाफ एसीबी के डीजी ने दो हफ्ते में प्रारंभिक जांच पूरी कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। एसीबी डीजी ने आदेश दिया है, कि दो हफ्ते में प्रारंभिक जांच पूरी कर इस संबंध में आगे के तथ्यों की जानकारी जुटाकर एफआइआर दर्ज की जाए। निरंजन कुमार पर अवैध रूप से वेतन निकासी सहित कई अन्य आरोप भी लगे हैं। उनके खिलाफ सरकार के विभिन्न खातों से लगभग 170 करोड़ का भुगतान करने और सपरिवार विदेश भ्रमण की शिकायत भी सरकार को मिली थी। संपत्ति विवरण में पत्नी के नाम से अर्जित संपत्ति का कोई विवरण नहीं देने और निविदा में मनमाने तरीके से किसी कंपनी विशेष को लाभ पहुंचाने का भी एसीबी से जांच कराने का आदेश सरकार ने दिया है। निरंजन कुमार के खिलाफ पूर्व में एसीबी ने जांच की अनुमति सरकार से मांगी थी। लेकिन पूर्ववर्ती सरकार ने जांच की अनुमति नहीं दी थी।

जरेडा कार्यालय में फाइलों को खंगाला, पूर्व निदेशक निरंजन के खिलाफ सबूत एकत्रित करने की कोशिश

राँची:- कारोड़ों रुपये के वित्तीय अनियमितता और घोटाले से जुड़े मामले में साक्ष्य एकत्रित करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) की टीम ने शुक्रवार को रांची के डोरंडा स्थित जरेडा कार्यालय में छापेमारी की। एसीबी के डीएसपी के नेतृत्व में की गयी छापेमारी में घोटाले से संबंधित फाइलों को खंगाला गया और पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के ई-मेल आईडी, आवास समेत अन्य निजी कंपनियों को एकत्रित करने की कोशिश की गयी।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार छानबीन के दौरान एसीबी ने घोटाले से संबंधित कई फाइलों को जब्त कर लिया है, वहीं करोड़ों रुपये की वित्तीय अनियमितता को लेकर आवश्यक साक्ष्य एकत्रित करने के लिए कई लोगों से जानकारियां भी हासिल करने की कोशिश की गयी।
गौरतलब है कि जरेडा के पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के खिलाफ मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जांच का आदेश दिया था। इसके बाद एसीबी की टीम ने गुरुवार को प्रारंभिक जांच दर्ज की थी। करीब 170 करोड़ रुपये के घोटाले को लेकर एसीबी ने निरंजन कुमार ने खिलाफ प्रारंभिक जांच दर्ज की थी। इंडियन पोस्ट एंड टीसी एकाउंटेंस एंड फाइनेंस सर्विस के अधिकारी निरंजन कुमार के खिलाफ एसीबी के डीजी ने दो हफ्ते में प्रारंभिक जांच पूरी कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। एसीबी डीजी ने आदेश दिया है, कि दो हफ्ते में प्रारंभिक जांच पूरी कर इस संबंध में आगे के तथ्यों की जानकारी जुटाकर एफआइआर दर्ज की जाए। निरंजन कुमार पर अवैध रूप से वेतन निकासी सहित कई अन्य आरोप भी लगे हैं। उनके खिलाफ सरकार के विभिन्न खातों से लगभग 170 करोड़ का भुगतान करने और सपरिवार विदेश भ्रमण की शिकायत भी सरकार को मिली थी। संपत्ति विवरण में पत्नी के नाम से अर्जित संपत्ति का कोई विवरण नहीं देने और निविदा में मनमाने तरीके से किसी कंपनी विशेष को लाभ पहुंचाने का भी एसीबी से जांच कराने का आदेश सरकार ने दिया है। निरंजन कुमार के खिलाफ पूर्व में एसीबी ने जांच की अनुमति सरकार से मांगी थी। लेकिन पूर्ववर्ती सरकार ने जांच की अनुमति नहीं दी थी।

Recent Posts

%d bloggers like this: