November 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रिम्स का ओपीडी खुला, व्यवस्था के अभाव में हुई परेशानी

राँची:- झारखंड की राजधानी रांची स्थित राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल राजेंद्र आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्थान, रिम्स का ओपीडी शुक्रवार को खोल दिया गया, लेकिन व्यवस्था के अभाव में मरीजों को काफी परेशानियों का सामना पड़ा।
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के सख्त आदेश के बाद रिम्स के ओपीडी की सेवा शुक्रवार से शुरू कर दी गयी, चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी भी पहुंचे, लेकिन कोरोना से बचाव और सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं सुनिश्चित होने से लोग परेशान दिखे। यहां तक मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए भी काउंटर नहीं खुला।
रिम्स निदेशक डॉ. डीके सिंह ने ओपीडी सेवा शुरू करने को लेकर सभी डॉक्टरों को पत्र जारी किया था। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान रिम्स मैनपावर की कमी से जूझ रहा है। लेकिन, सामान्य मरीजों को भी देखना जरूरी है। दूसरी ओर, स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी ओपीडी खोलने का आदेश मिल चुका है। ऐसे में ओपीडी खोलना आवश्यक है। ऐसी परिस्थिति में प्रबंधन के पास जितना मैनपावर है, उससे ही सामंजस्य बनाकर चिकित्सा व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने का प्रयास करेंगे। इस दौरान सभी डॉक्टर्स भारत सरकार की गाइडलाइन को फॉलो करते हुए ओपीडी में मरीजों का इलाज करेंगे। इसके लिए सभी डॉक्टरों और नर्सों के लिए सुरक्षा किट की व्यवस्था की गई है।

राँची:- झारखंड की राजधानी रांची स्थित राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल राजेंद्र आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्थान, रिम्स का ओपीडी शुक्रवार को खोल दिया गया, लेकिन व्यवस्था के अभाव में मरीजों को काफी परेशानियों का सामना पड़ा।
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी के सख्त आदेश के बाद रिम्स के ओपीडी की सेवा शुक्रवार से शुरू कर दी गयी, चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी भी पहुंचे, लेकिन कोरोना से बचाव और सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं सुनिश्चित होने से लोग परेशान दिखे। यहां तक मरीजों के रजिस्ट्रेशन के लिए भी काउंटर नहीं खुला।
रिम्स निदेशक डॉ. डीके सिंह ने ओपीडी सेवा शुरू करने को लेकर सभी डॉक्टरों को पत्र जारी किया था। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के दौरान रिम्स मैनपावर की कमी से जूझ रहा है। लेकिन, सामान्य मरीजों को भी देखना जरूरी है। दूसरी ओर, स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी ओपीडी खोलने का आदेश मिल चुका है। ऐसे में ओपीडी खोलना आवश्यक है। ऐसी परिस्थिति में प्रबंधन के पास जितना मैनपावर है, उससे ही सामंजस्य बनाकर चिकित्सा व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने का प्रयास करेंगे। इस दौरान सभी डॉक्टर्स भारत सरकार की गाइडलाइन को फॉलो करते हुए ओपीडी में मरीजों का इलाज करेंगे। इसके लिए सभी डॉक्टरों और नर्सों के लिए सुरक्षा किट की व्यवस्था की गई है।

Recent Posts

%d bloggers like this: