November 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

लाॅकडाउन के दो महीने में 24 लोगों ने की खुदकुशी

दुमका:- झारखंड में दुमका जिले में कोराना वायरस संक्रमण से बचाव के मद्देनजर पिछले दो महीने से जारी लाक डाउन के दौरान अलग-अलग थाना क्षेत्रों में 24 लोगों ने आत्महत्या की। इससे जिले में इस वर्ष के प्रथम तीन महीने की तुलना में आत्महत्या की घटना में वृद्धि हुई है। पुलिस के आंकड़े के मुताबिक पिछले दो महीने के दौरान जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में पूर्व के महीने की तुलना में चैबीस लोगों ने जहर खाकर अथवा फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। जिले में जनवरी में जहर खाकर दो,फरवरी में तीन और फांसी लगाकर दो तथा मार्च में फांसी लगाकर पांच लोगों ने आत्महत्या कर ली। इसमें 24 मार्च से शुरू लाक डाउन में 31मार्च तक की अवधि में आत्महत्या करने वालों की संख्या भी शामिल हैं। जबकि अप्रैल महीने में जहर खाकर एक और फांसी लगाकर छह लोगों ने आत्महत्या कर ली वहीं चालू मई महीने में 24 मई तक जहर खाकर तीन और फांसी लगाकर 14 लोगों ने आत्महत्या कर ली। इस अवधि में आत्महत्या करने वालों में अधिकांश युवा वर्ग शामिल हैं। इस तरह जनवरी, फरवरी और मार्च सहित तीन महीने के दौरान जिले में जहर खाकर पांच और फांसी लगाकर सात लोगों सहित कुल 12लोगों ने आत्महत्या की। इन तीन महीने की तुलना में 24 मार्च से शुरू देश व्यापी लोक डाउन लाकडाउन की अवधि के 24से31मार्च यानि छह दिन को छोड़ भी दिया जाय तो सिर्फ अप्रैल एवं चालू मई महीने के 24 मई तक यानि लाक डाउन के लगभग 54 दिन के दौरान जहर खाकर चार और फांसी लगाकर 20 लोगों सहित कुल 24 लोग ने खुदकुशी कर ली। मनोवैज्ञानिक की मानें तो अधिकांश मामले में भय,उदासी,नींद की कमी,आवेश, चिड़चिड़ापन,आलस्य की वजह से अवसाद के कारण मानसिक दबाव सहने में अक्षम हो जाना आत्महत्या के प्रमुख लक्षण है। इसलिए लोगों को हर समय मानसिक तनाव व अवसाद के प्रभाव से बचने के लिए समय पर भोजन,पर्याप्त नींद लेने के साथ योग को अपने दिनचर्या में शामिल करना चाहिए तथा मन मे सदैव सकारात्मक विचार को लाने का प्रयास करना चाहिए।

%d bloggers like this: