November 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड के मूक करोना योद्धाओं में एक नाम श्री अर्चित आनन्द

राँची:- झारखंड के मूक करोना योद्धाओं में एक नाम श्री अर्चित आनन्द का भी आता है। जो पेटसी नामक संस्था के सचिव है। यह संस्था जल संचय एवं पर्यावरण पर काम करने वाली अग्रिणी संस्था है। यह संस्था सन 1999 से कार्य कर रही है। अपने काम के लिए इस संस्था को कई पुरस्कार भी मिल चुके है।

कोरोना माहामारी के इस दौर में श्री अर्चित आनंद एवं उनकी पत्नी श्रीमति बरखा सिन्हा ने कई अभूतपूर्ण कार्य किये है वह भी बिना किसी प्रचार प्रसार के। इन्होंने जरूरत मंदो के बीच खाद्य सामाग्री, मास्क सेनेटाइजर आदि का बड़े पैमाने पर वितरण किया है,साथ ही साथ आने वाले दिनों में इस माहामारी से उत्पन्न समस्याओं का आकलन कर उसके निदान हेतु लगातार प्रयासरत भी हैं। श्री आनंद ने कई संस्थाओं के साथ मिलकर युवको को रोजगार उपलब्ध कराने हेतु कई योजनाएं भी बनाई है। कोविड 19 के योद्धाओं को कोडिनेट करने के लिए सरकार ने इनकी संस्था को धनबाद का नोडल एजेंसी भी बनाया है। मूक यौद्धा के रूप में श्री अर्चित आनंद व उनकी टीम लगातार काम कर रही है।

बताते चले कि श्री अर्चित आनंद वर्तमान समय मे शिव शिष्यता के जनक कहे जाने वाले साहब श्री हरीन्द्रानन्द जी के जेष्ठ सुपुत्र हैं।अतः अध्यात्म से इनका लगाव स्वाभाविक ही है। श्री आनंद शिव शिष्य परिवार , शिव शिष्य हरिन्द्रानन्द फाउंडेशन एवम वैश्विक शिवशिष्य परिवार के मुख्य सलाहकार भी हैं।

धार्मिक संगठनों के माध्यम से भी श्री आनन्द बड़े पैमाने पर कार्य कर रहे हैं। शिवशिष्य हरीन्द्रानन्द फाउंडेशन के माध्यम से कोरोना माहामारी के इस दौर में भी देश मे जगह जगह जरूरतमंदों के बीच खाद्य समाग्री एवम आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया जा रहा है।वह बिना किसी प्रचार व प्रसार के वरेण्य गुरुभ्रता श्री हरीन्द्रानन्द जी की प्रेरणा एवम उनके दिशा निर्देश के तहत देश और विदेश के शिवशिष्य, कोरोंना माहामारी के इस जंग में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। श्री आनंद सरल स्वभाव, मृदु भाषी, तथा उदारप्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। इन सब से दीगर इनकी खेल में भी अभिरुचि रहती है।वर्तमान समय मे तैराकी संघ तलवार बाज़ी, आदि संस्थाओं से भी इनका जुड़ाव है।

Recent Posts

%d bloggers like this: