November 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

खदान हादसे में ठेका मजदूर की मौत

धनबाद:- धनबाद जिले में सेल के चासनाला स्थित कोयला माइंस में वर्ष 1975 में खदान हादसा होने से 375 कोयला मजदूरों की जान चली गई थी और जिस हादसे को लेकर 1979 में यश चोपड़ा ने काला पत्थर नामक हिट फिल्म बनाई थी , उसी कोयले की खदान में कल रात एक बार फिर से हादसा हुआ और एक ठेका मजदूर की जान चली गई।
सेल के चासनाला स्थित इस कोयले की खदान में कल रात दूसरी पाली में करीब 9 बजे रोज की ही तरह कोयला मजदूर काम करने धरती के गर्भ में उतरे थे। तभी एक हादसे ने इस रमजान के पाक महीने जुमे की ही रात 36 वर्षीय कोयला मजदूर महताब आलम की जीवन लीला हमेशा के लिए समाप्त कर दी। घटना के संबंध में बताया गया है कि सुपरवाइजर महताब आलम खदान के अंदर बने 180 फीट गहरे बंकर कन्वेयर बेल्ट से कोयला को आगे बढ़ाने की कोशिश मे बंकर में जा गिरे। इस दौरान उनपर कोयला भी गिरता रहा। घटना के बाद करीब 4 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद महताब का शव खदान से बाहर निकाला गया।
घटना की खबर पाकर विभिन्न ट्रेड यूनियन के नेता मौके पर पहुंच गए। वहीं रात्रि पाली में ड्यूटी जाने के लिए पहुंचे मजदूरों की भीड़ भी वहां जमा हो गई। मजदूरों ने घटना के बाद हो हंगामा शुरू कर दिया। बाद में मौके पर पहुंचे कोलियरी प्रबंधन और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने लोगों को समझाबुझा कर शांत कराया।
घटना के बाद इस हादसे के जांच के आदेश सेल प्रबंधन द्वारा जारी किया गया है। वहीं दूसरी ओर मृतक कोयला मजदूर महताब आलम के घर रमजान के इस महीने में मातम और चीख-पुकार मचा हुआ है।

Recent Posts

%d bloggers like this: