November 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सरकार की सूचना तंत्र पूरी तरह से फेल हुई : बाबूलाल

राँची:- बीजेपी विधायक दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि चाईबासा के एक ही इलाके में एक दिन के अंतराल पर ही लगातार दो उग्रवादी घटनाएं बताती हैं कि झारखंड में नक्सलियों की जड़ें पुनः कितनी मजबूत हो चुकी हैं और राज्य सरकार का सूचना तंत्र पूरी तरह फेल हो गयी है। उन्होंने कहा कि जब एक ही दिन पूर्व वहां बड़ी नक्सली वारदात हुई है तो फिर उसी इलाके में घटना घटित होना कई सवाल पैदा करता है। आखिर राज्य की सुरक्षा एजेंसियां क्या कर रही हैं ? यह राज्य के लिए चिंता का विषय है। कह सकते हैं कि झारखंड में विधि-व्यवस्था पूरी तरह चरमरा चुकी है। राज्य सरकार का ध्यान जनहित के मुद्दों की बजाय ठेका-टेंडर मैनेज करने की तरफ केन्द्रित है।
बाबूलाल मरांडी ने कहा कि हेमंत सरकार के छह माह के कार्यकाल में 42 से भी अधिक उग्रवादी घटनाओं का घटित होना प्रमाणित करता है कि लॉ एंड ऑर्डर इस सरकार की प्राथमिकता में कहीं नहीं है। प्रदेश में अपराध और उग्रवाद की घटनाओं का ग्राफ प्रतिदिन चढ़ रहा है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, राज्य की विधि-व्यवस्था को संभालिए। सत्ता आनी-जानी है। जनता त्राहिमाम कर रही है। जनता के भरोसे को टूटने नहीं दीजिए।
गौरतलब है कि नक्सलियों ने 11 जुलाई को चाईबासा के बरकेला वन विभाग रेन्ज कार्यालय में लगभग एक दर्जन भवन को उड़ाने के अलावा दर्जनाधिक छोटी-बड़ी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था। पुनः इसी इलाके से कुछ किलोमीटर की दूरी पर एक दिन बाद ही यादि आज नक्सलियों द्वारा विस्फोट कर सड़क को क्षतिग्रस्त करने की खबर मिली है।

Recent Posts

%d bloggers like this: