October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड हाई कोर्ट के कार्यवाहक चीफ जस्टिस प्रशांत कुमार का निधन, CM ने जताई संवेदना- न्‍यायविदों में शोक


झारखंड हाई कोर्ट में कार्यवाहक मुख्‍य न्‍यायाधीश प्रशांत कुमार नहीं रहे। शुक्रवार की सुबह उन्‍होंने रांची के मेडिका अस्‍पताल में आखिरी सांसें लीं। न्यायाधीश प्रशांत कुमार के निधन से न्‍यायविदों में शोक की लहर दौड़ गई। वे अभी झारखंड उच्च न्यायलय में कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के रूप में पदस्‍थापित थे। सुबह 5.16 बजे उनका देहावसान हुआ है। जस्टिस प्रशांत कुमार उत्‍तर प्रदेश के बलिया जिले के बैरिया थाना के गुहियां छपरा के रहने वाले थे। जस्टिस प्रशांत कुमार का पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए 2:30 बजे हाई कोर्ट ले जाया जाएगा।

मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने जस्टिस प्रशांत कुमार के पार्थिव शरीर का दर्शन कर श्रद्धांजलि दी।
मुख्‍यमंत्री रघुवर दास ने दिवंगत जस्टिस प्रशांत कुमार के निधन पर दुख्‍ा जताया है। उन्‍होंने अपने संदेश में कहा – झारखंड उच्च न्यायालय के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश प्रशांत कुमार जी के निधन पर मेरी संवेदनाएं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दे तथा शोक संतप्त परिजनों को दुःख की इस घड़ी में संबल प्रदान करे।

जस्टिस प्रशांत कुमार को श्रद्धांजलि देते रांची डीसी राय महिमापत रे।
जस्टिस प्रशांत कुमार 61 वर्ष के थे। उनका जन्‍म एक जुलाई 1958 को हुआ। उनकी प्रारंभिक शिक्षा छपरा, बिहार के बिशेश्‍वर सेमिनरी स्‍कूल से हुई। उन्‍होंने बनारस के उदय प्रताप सिंह कॉलेज से साइंस में स्‍नातक किया। वे एक अक्‍टूबर 1980 को एक अधिवक्‍ता के रूप में बिहार राज्‍य बार काउंसिल से जुड़े। उन्‍होंने वकील के तौर पर पटना हाई कोर्ट में लंबे समय तक प्रैक्टिस की।

दिवंगत कार्यवाहक मुख्‍य न्‍यायाधीश प्रशांत कुमार के आवास पर गमगीन हाई कोर्ट के जज।
वे पटना हाई कोर्ट के रांची बेंच में भी 1980 से लेकर 1991 तक सं‍वैधानिक और सेवाओं से जुड़े मामले देखते रहे। 6 मई 1991 को प्रशांत कुमार एडीजे के तौर पर न्‍यायिक सेवा में दाखिल हुए। इसके बाद उन्‍हें जून 2001 में जिला जज के रूप में प्रो‍न्‍नत किया गया। मरहूम प्रशांत कुमार 21 जनवरी 2009 को झारखंड हाई कोर्ट में अतिरिक्‍त जज के रूप में पदस्‍थापित हुए।

जस्टिस प्रशांत कुमार के पार्थिव शरीर का दर्शन कर लोगों ने पुष्‍पांजलि अर्पित की।
19 मई 2016 को उनका तबादलता इलाहाबाद हाई कोर्ट में किया गया। 10 मई 2019 को इलाहाबाद हाई कोर्ट से स्‍थानांतरित होकर उन्‍होंने झारखंड हाई कोर्ट में जज के रूप में शपथ ली। 7 जून 2019 से अब तक वे कार्यवाहक मुख्‍य न्‍यायाधीश के तौर पर कार्यरत रहे।

Recent Posts

%d bloggers like this: