जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान में मातम छाया हुआ है। केंद्र सरकार के इस फैसले से पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को तगड़ा झटका लगा है और वह लगातार अपनी बौखलाहट में अनर्गल प्रलाप कर रहा है ।इमरान ने सोमवार को देश के नाम अपने संबोधन में फिर से कश्मीर की आजादी का रागअलापा है। उन्होंने कहा कि हम कश्मीर पर किसी भी हद तक जाएंगे साथ ही मुस्लिम देशों बीच इस मुद्दों को लगातार उठाते रहेंगे।

इमरान खान ने देश के नाम संबोधन में कहा कि कश्मीर पर अब फैसले का वक्त आ गया है। उन्होंने कहा कि कश्मीर को आजाद कराने तक हमें साथ रहना होगा। पाकिस्तानी PM ने अपने देश की जनता से हर शुक्रवार को कश्मीर के मसले पर सड़कों पर प्रदर्शन की अपील की है। उन्होंने भारत को एक बार फिर गीदड़भभकी देते हुए कहा कि अब भारत बालाकोट जैसा हमला नहीं दोहरा सकता है और हम PoK में पूरी तरह तैयार हैं।

इमरान खान ने अपने संबोधन में बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि कश्मीर से धारा 370 हटाकर नरेंद्र मोदी ने बहुत बड़ी गलती की है। इमरान खान ने बीजेपी पर अल्पसंख्यकों के साथ जुल्म करने का आरोप लगाया। पाकिस्तानी पीएम ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह आतंकवाद समेत कई अन्य मुद्दे उठाकर कश्मीर पर बातचीत से पीछे हट जाता है। उन्होंने कहा कि भारत हर बार पाकिस्तान पर आरोप लगाने के मौके खोजता है।

अब बालाकोट मुमकिन नही

देश के नाम संबोधन में पाकिस्तान प्रधानमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी की गलती के वजह से कश्मीर के लोगों को आजादी का मौका मिल गया है। इमरान खान ने फर्जी दावा करते हुए कहा कि हमने कश्मीर मसले का अतंरराष्ट्रीयकरण करने में कामयाबी हासिल की है। उन्होने आरोप लगाया कि कश्मीर में मानव अधिकारों का हनन हो रहा है। खान ने दावा किया कि संयुक्त राष्ट्र ने भी इस विषय को अंतरराष्ट्रीय मसला माना है। साथ ही दुनिया की मीडिया भी इसे जोर से उठा रही है।

अनर्गल प्रलाप

इमरान खान ने कहा कि भारत हमला करने जा रहा था लेकिन PoK में हमारी सेना तैयार है और अब बालाकोट जैसा ऑपरेशन मुमकिन नहीं है। इमरान खान ने पाकिस्तान की आवाम से अपील करते हुए कहा कि हमें कश्मीर के लोगों के साथ खड़ा होना हैं क्योंकि वे लोग मुश्किल में हैं। इमरान ने कहा कि मैं कश्मीर का राजदूत बनने को तैयार हूं और आगे दुनियाभर में हमारे राजदूत इस मुद्दों को उठाएंगे।

कश्मीर के लिए घरों से निकलें लोग

इमरान ने कहा कि 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र में अपने संबोधन के दौरान भी मैं कश्मीर का मुद्दा उठाउंगा। उन्होंने कहा कि इस विषय को वैश्विक मंचों पर ले जाने की जरूरत है। दुनिया के कई मुस्लिम देश मजबूरी में हमारे साथ नहीं हैं लेकिन आने वाले वक्त में कश्मीर पर वह हमारे साथ खड़े होंगे। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया खड़ी हो या नहीं लेकिन पाकिस्तान की आवाम कश्मीर के साथ खड़ी होनी चाहिए। इमरान ने अपनी जनता से कहा कि हर हफ्ते लोग अपने घरों से निकलें और कश्मीर के लिए आवाज उठाएं। हर शुक्रवार अपने घरों से निकलकर लोगों को बताएं कि हम कश्मीर के साथ खड़े हैं। इस हफ्ते 12 से 12.30 तक जनता घरों से निकलकर लोगों को कश्मीर के हालात के बारे में बताएगी।

इमरान ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र पर अब बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि उन्होंने ही कश्मीर के लोगों को हक देने की बात कही थी। इमरान ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र अब तक सिर्फ ताकतवर देशों के साथ खड़ा होता आया है लेकिन अब मुस्लिमों पर जुल्म हो रहा है और UN को साथ खड़ा होना होगा। इमरान ने कहा कि दोनों मुल्कों के पास परमाणु हथियार हैं और अगर मसला जंग की तरफ चला गया तो तबाही पूरी दुनिया तक जाएगी। पाकिस्तान अब कश्मीर पर हर हद तक जाने को तैयार है।