October 20, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रेलकर्मी के घर में घुसकर आरपीएफ जवान ने कार्बाइन से पति-पत्नी और बेटी की हत्या की

रामगढ़ :- बरकाकाना के गांधीनगर रेलवे कॉलोनी में आरपीएफ जवान पवन कुमार सिंह ने रेलकर्मी अशाेक राम के घर में घुसकर कार्बाइन से ताबड़ताेड़ फायरिंग की। गोली लगने से रेलकर्मी अशोक राम (56), उनकी पत्नी लीलावती देवी (52) और गर्भवती बेटी मीना देवी (30) की मौत हो गई। बेटी सुमन देवी, और बेटे संजय राम काे गंभीर हालत में रिम्स रांची भेजा गया है। घर में मौजूद बेटी प्रियंका कुमारी और बेटा बिट्टु मौका पाकर दूसरे कमरे में जाकर छिप गए।आराेपी जवान फरार है।

रेलकर्मी का परिवार गाय पालकर दूध बेचने का काम भी करता था। आरोपी जवान इनसे दूध लेता था लेकिन पैसे नहीं देने के कारण 25 दिन पहले उसे दूध देना बंद कर दिया था। बताया जाता है कि इसी गुस्से में उसने यह कदम उठाया। रेलवे कॉलोनी में जवान पवन कुमार सिंह और रेलकर्मी अशोक राम का क्वार्टर अासपास है। इधर, आक्राेशित परिजन और लाेगाें ने रांची राेड पर मुख्य सड़क जाम कर दी। ये लोग आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी की मांग पर अड़े थे।

अशोक राम पोर्टर थे, पत्नी डीसी ऑफिस की कर्मी
घायलों को पहले रांची रोड के हाेप हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। सूचना पाकर रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार हॉस्पिटल पहुंचे और घायलों का हाल जाना। एसपी ने बताया कि रेलवे कॉलोनी में जवान पवन कुमार ने अशोक राम के घर में घुसकर गोलियां चलाई। परिवार के पांच लोगों को गोलियां लगीं, जिसमें रेलकर्मी और उनकी पत्नी की माैत हाे गई और तीन गंभीर रूप से घायल हो गए। बाद में बेटी की भी मौत हा गई। फरार जवान को जल्द गिरफ्तार लिया जाएगा। अशोक राम भुरकुंडा स्टेशन पर पोर्टर का काम करते थे। पत्नी लीला देवी रामगढ़ डीसी कार्यालय में आउट सोर्स पर फोर्थ ग्रेड कर्मचारी थी।

अचानक घर में घुसा और अंधाधुंध गोलियां बरसाने लगा
रेलकर्मी अशोक राम की बेटी प्रियंका ने बताया- शनिवार रात करीब 8 बजे आरपीएफ जवान पवन सिंह घर में घुसा। उसने कोई बातचीत नहीं की। सीधे गोलियां चलाने लगा। उसकी गोली से माता-पिता भाई-बहन गंभीर रूप से घायल हो गए। गोलीबारी करने के बाद वह भाग निकला। हमलाेग दूध का काराेबार करते हैं। आरपीएफ जवान पवन सिंह भी मेरे यहां से दूध लेता था। वह समय पर पैसा नहीं देता था। इसलिए 25 दिन पहले उसे दूध देना बंद कर दिया था। इस कारण उसने घटना को अंजाम दिया। अाराेपी कुछ दिनाें पहले ही रेलवे कॉलोनी में रहने आया है। हमें आभास ही नहीं था कि इतनी छोटी बात के लिए वह हमारा परिवार बर्बाद कर देगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: