October 23, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड के कई हिस्सों में हुई तेज बारिश, खरसावां के कई घरों में घुसा पानी

राँची :- राजधानी रांची समेत झारखंड के कई हिस्सों में रविवार को गरज के साथ तेज बारिश हुई। आसमान के काले बादलों से ढंक जाने की वजह से सुबह में सड़क पर वाहनों की हेडलाइट जलानी पड़ी। बारिश की वजह से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं। वहीं, शहर के कई इलाकों में जलभराव की समस्या उत्पन्न हो गई।खरसावां के आदर्श ग्राम गोंडामरा स्थित घरों में बरसात का पानी घुस गया। मौसम विभाग के अनुसार, अगले चार दिनों तक हल्की बारिश की संभावना बनी हुई है।

खरसावां में संजय नदी का जलस्तर बढ़ने से आदर्श ग्राम गोंडामारा के कई घरों में बरसात का पानी घुस गया। इससे ग्रामीणों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोग घरों को खाली कर सुरक्षित स्थान में जा रहे हैं। इधर,खरसावां खूंटपानी सीमा के अंतर्गत संजय नदी में पानी का बहाव अधिक होने के कारण सीमबासाई पुल की एक छोर की मिट्टी कट गई है। इससे पुल पर आवाजाही पूरी तरह बंद हो गई है। ग्रामीण काफी परेशान हैं। यहां पुल खरसावां के बड़ाबांमो, गोंडामारा, सामुरसाई, शहीद खरसावां के दर्जनों गांव को खूंटपानी प्रखंड के अयोध्या, बड़ाचिरू आदि गांव को जोड़ती है।

रविवार को रांची, बोकारो, गुमला, हजारीबाग, खूंटी, रामगढ़, पूर्वी सिंघभूम, पश्चिमी सिंहभूम, सिमडेगा और सरायकेला खरसावां में अच्छी-खासी बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटों में झारखंड में मानसून सामान्य रहा। आकड़ों के मुताबिक, 1 जून से 17 अगस्त तक रांची में कुल 440.8 एमएम बारिश हुई। जबकि, सामान्य बारिश 715.5 एमएम है। जोकि 38 प्रतिशत कम है।

मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटों में मानसून झारखंड में सामान्य रहा। राज्य में लगभग सभी स्थानों पर हल्के से मध्यम दर्जे की वर्षा हुई। दक्षिणी झारखंड में कहीं-कहीं बहुत भारी बारिश दर्ज की गई। सबसे अधिक वर्षा 146.0 एमएम जमशेदपुर में रिकॉर्ड की गई। सबसे कम न्यूनतम तापमान 23.6 डिग्री सेल्सियस दरिसाई में जबकि अधिकतम तापमान 34.9 डिग्री सेल्सियस पाकुड़ में दर्ज किया गया।

इधर, धनबाद में शनिवार दोपहर में डेढ़ घंटे तेज बारिश हुई। बारिश के कारण शहर के निचले इलाकों में पानी भर गया। पीएमसीएच के अाईसीयू, हाई डिपेंडेंसी यूनिट, मेल मेडिसीन वार्ड, प्वाइजनिंग वार्ड, स्टाेर, स्विच हाउस में पानी घुस गया। सबसे बुरा हाल अस्पताल के बेसमेंट में बने मेल सर्जरी वार्ड व बर्न वार्ड का रहा। दाेनाें ही वार्ड घंटाें पानी से लबालब रहा। सफाई कर्मियाें काे वार्डाें से पानी निकालने के लिए घंटाें मशक्कत करनी पड़ी।

वहीं, जमशेदपुर में 24 घंटे में 16.44 मिलीमीटर बारिश होने से खरकई और सुवर्णरेखा नदी का जलस्तर इस वर्ष के सबसे उच्चतम पर पहुंचा गया। खरकई का वाटर लेबल तीन मीटर और सुवर्णरेखा नदी का पांच मीटर से ऊपर पहुंचा। पिछले लगभग अाठ महीने से नाले की तरह बह रही खरकई में पानी भरने से नदी में पानी भरा हुआ नजर आ रहा है। एक सप्ताह से वाटर लेबल बढ़ने से शहरवासियों काे भी राहत मिली है।

Recent Posts

%d bloggers like this: