October 27, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सुषमा स्वराज की मृत्यु से झारखंड में शोक की लहर

राँची :- मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने अत्यन्त भारी मन से कहा कि देश की पूर्व विदेश मंत्री, बहन सुषमा स्वराज जी के निधन की खबर से स्तब्ध और दुखी हूँ।

उन्होंने कहा कि सुषमा जी ने अपना पूरा जीवन राष्ट्रसेवा को समर्पित किया, उनकी कमी हमें सदैव महसूस होगी। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे और उनके परिवार को यह दुःख सहन करने की शक्ति दे।

भाजपा की वरिष्ठ नेत्री, प्रखर वक्ता, ममता की प्रतिमूर्ति और बड़ी बहन सुषमा स्वराज जी के निधन के समाचार से स्तब्ध और दुखी हूं। उनके असामयिक निधन से मन द्रवित है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें और हम सभी भाजपा परिवार के कार्यकर्ताओं को यह दुख सहने की शक्ति दे। वे राजनीतिक जीवन की यूनिवर्सिटी थी। उनकी कमी सदैव खलेगी। ॐ शांति शांति शांति।

रघुवर दास मुख्यमंत्री

गला रुंधा हुआ है, मैं निशब्द हूँ।

आदरणीय सुषमा स्वराज जी का जाना राष्ट्रीय क्षति है। फिलहाल इससे अधिक कुछ भी कहने में असमर्थ हूँ।

ईश्वर पुण्यात्मा को चिर शांति प्रदान करें। दुःख की इस घड़ी में मेरी संवेदना उनके प्रशंसक, समर्थक एवं परिजनों के साथ है।

सागर कुमार, प्रवक्ता, युवा जदयू

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्री लक्ष्मण गिलुवा सहित पूरी प्रदेश कमेटी ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज जी के आकस्मिक निधन पर गहरा खेद प्रकट किया। श्री लक्ष्मण गिलुवा ने कहा की सुषमा जी ना सिर्फ एक प्रखर वक्ता थी बल्कि राष्ट्रवादी सोच की अग्रणी नेत्री भी थी।कृतज़ राष्ट्र उनके योगदान को हमेशा याद रखेगा। देश को उनकी कमी बहुत खलेगी।भाजपा का एक-एक कार्यकर्ता उनके निधन से मर्माहत है ।ईश्वर उनके परिजनों को इस दुख को सहने की शक्ति दे।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर ने भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के निधन पर शोक व्यक्त किया है और कहा है कि देश के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकेगा। उनका व्यक्तित्व हमेशा पार्टी कार्यकर्ताओं और अन्य लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत रहा है। भाजपा को खड़ा करने में उन्होंने कड़ी मेहनत की। विदेश मंत्री के रूप में विदेश में बसे भारतीयों के साथ सीधे जुड़ी रहीं और मदद करती रहीं।
वह पहली महिला विदेश मंत्री रहीं। दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री रहीं। साथ ही भाजपा प्रवक्ता के रूप में किसी भी राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता होने का भी रिकॉर्ड उनके नाम दर्ज है। झारखंड से भी उन्हें विशेष लगाव रहा।

सुषमा स्वराज का आखिरी ट्वीट, धारा 370 पर PM मोदी को दी थी बधाई।

नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज का निधन हो गया। 6 अगस्त को उनका एम्स में इलाज के दौरान निधन हुआ। हार्ट अटैक के बाद 67 साल की उम्र में सुषमा ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। दिल्ली के एम्स में उन्होंने आखिरी सांस ली। रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्हें हार्ट अटैक आने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। सुषमा स्वराज ने 6 अगस्त को ही आखिरी बार ट्वीट किया। उन्होंने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी और फैसले का अभिनंदन किया।

बताते चलें कि अपने आखिरी ट्वीट में सुषमा स्वराज ने लिखा, “प्रधान मंत्री जी – आपका हार्दिक अभिनन्दन। मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी।

सुषमा जी का आख़िरी ट्वीट बता रहा है शायद उन्हें अहसास हो गया था।

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को मंगलवार शाम को एम्स में भर्ती कराया गया था। एम्स में 5 डॉक्टरों की टीम ने उन्हें अटेंड किया। वहीं सुषमा स्वराज के निधन की खबर मिलते ही बीजेपी के कई दिग्गज नेता अस्पताल पहुंच गए। बीजेपी नेता, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, हर्षवर्धन और एसएस आहलुवालिया एम्स पहुंचे।

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बताया कि आज दोपहर 12 बजे से 3 बजे के बीच बीजेपी कार्यालय में सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। तीन बजे के बाद उनका पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा।

Recent Posts

%d bloggers like this: