October 28, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति में स्थानीय से ज्यादा दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों की हो रही नियुक्ति

राँची :- स्कूल शिक्षक नियुक्ति परीक्षा में राज्य के 11 जिलों के सामान्य पदों में अधिसंख्य दूसरे राज्यों के अभ्यर्थी नियुक्त हो रहे हैं। पलामू तथा देवघर में अभ्यर्थियों को सौंपे गए नियुक्ति पत्र से यह खुलासा हुआ है। संभावना जताई जा रही है कि अन्य नौ जिलों में भी इसी तरह दूसरे राज्यों के अभ्यर्थी ही चयनित हुए हैं। इसे लेकर स्थानीय अभ्यर्थियों में रोष है।
पलामू में अंग्रेजी विषय में सामान्य पद 20 थे जिनमें 17 पदों पर दूसरे राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार तथा पश्चिमी बंगाल के अभ्यर्थी चयनित हुए। इसी तरह, गृह विज्ञान में 46 पद सामान्य श्रेणी के थे। इनमें 27 पदों पर दूसरे राज्यों के अभ्यर्थी चयनित हुए। बताया जाता है कि अन्य विषयों में भी कमोबेश ऐसा ही हुआ है। इसी तरह, देवघर में शारीरिक शिक्षा विषय में सामान्य के 20 पदों में 19 दूसरे राज्यों के अभ्यर्थी चयनित हुए हैं।

11 जिलों को रखा गया था खुला

स्थानीय नीति के तहत राज्य के अनुसूचित 13 जिलों में होनेवाली नियुक्तियों को संबंधित जिलों के उम्मीदवारों आरक्षित तो किया गया था, लेकिन 11 जिलों को खुला रखा गया था। इन 11 जिलों में एससी, एसटी तथा ओबीसी के पदों पर आरक्षित पदों पर तो केवल झारखंड के अभ्यर्थियों की नियुक्ति हुई (आरक्षण का लाभ लेने के लिए स्थानीय प्रमाणपत्र देना पड़ता है), लेकिन सामान्य पद दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों के लिए खुले थे। दूसरे राज्य के अभ्यर्थी यहां के अभ्यर्थियों से अधिक अंक लाकर अधिसंख्य पदों पर नियुक्ति में सफल रहे।

प्राथमिक शिक्षकों के आरक्षित रिक्त पदों को ले उठ रहे सवाल
शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने विधानसभा में हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति में प्राथमिक शिक्षकों के लिए आरक्षित रिक्त रह गए पदों को सीधी भर्ती से भरने की घोषणा की है। अब सवाल उठ रहे हैं कि प्राथमिक शिक्षकों के कोटे के रिक्त पदों पर झारखंड के स्थानीय अभ्यर्थी नियुक्त होंगे या फिर 11 जिलों में ये पद दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों के लिए भी खुले रहेंगे। स्थानीय अभ्यर्थियों को आशंका है कि कहीं इन पदों पर भी दूसरे राज्यों के अभ्यर्थियों का कब्जा न हो जाए।

Recent Posts

%d bloggers like this: