October 29, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मानवता/ शर्मसार पिता ने गर्भ में ही अपने बच्चे का किया था सौदा, जन्म के बाद खरीदार को बच्चा देते समय हंगामा

हाजीपुर:- हाजीपुर के नवीन सिनेमा रोड स्थित एक निजी नर्सिंग होम में प्रसव के लिए भर्ती महिला ने नॉर्मल डिलेवरी के बाद पुत्र को जन्म दिया। शिशु के जन्म के 20 घंटे बाद ही पत्नी के पास पहुंचे पति ने कहा कि गर्भ में रहने तक बच्चा तुम्हारा था। अब यह किसी और का है। बच्चा कोख में ही था तभी उसने अपने संबंधी से सौदा कर लिया था। बच्चे के एवज में नौकरी और अच्छा-खासा पैसा मिलेगा। इतना सुनते ही तड़प उठी मां ने खुद से बच्चे को अलग करने से इंकार कर दिया। चीख सुनकर मौके पर जुटे लोग महिला का पक्ष लिया। लोगों के हंगामे-शोर-शराबा के बाद खरीदार व पुत्र का सौदा करने वाला पिता वहां से खिसक लिया। नर्सिंग होम वाले ने भी जच्चा-बच्चा को वहां से हटाकर गायब कर दिया। आश्चर्य की बात यह कि हंगामा, बच्चा खरीद-फरोख्त के संगीन मामले की जानकारी मिलते ही पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही।

पति ने कहा-बच्चा के साथ उसको भी बेच देगा
निजी नर्सिंग होम में रोते बिलखते हुए आरती देवी ने बताया कि उसको नहीं पता कि कितने रुपए में उसके नवजात को बेचा गया है। यह उसका पति ही बता सकता है। उसने बताया कि उसका पति बेरोजगार व निकम्मा है। वह कोई काम नही करता है। जब उसने बच्चा देने से इनकार कर दिया तो उसके पति ने बाद में उससे कहा कि वह जुबान दे चुका है। बच्चा देकर रहेगा। तुम अगर चाहो तो बच्चे के साथ उन्हीं के यहां रहना। वे तुमको भी अच्छे से रखेंगे।

महिला चिकित्सक ने कराया था सौदा
महिला आरती देवी ने बताया कि पति कमाता नहीं है। घर में अभाव रहता है। पहले से उसे एक पुत्र व पुत्री है। तीसर बच्चा कोख में आ गया तो वह हाजीपुर के एक महिला डॉक्टर के यहां एबॉर्सन के लिए आई थी। डॉक्टर ने उसके पति से कुछ बात की। नर्सिंग होम में कुछ देर के लिए उसे बैठा दिया गया था। कुछ घंटे बाद एक अंजान व्यक्ति डॉक्टर व उसके पति से मिलने आया था। संयोग से वह आदमी उसके पति के दूर का रिश्तेदार निकला। उस दौरान उन दोनों ने एक जगह ले जाकर अल्ट्रासाउंड कराया था। अचानक पति का मूड बदल गया। उसने कहा कि अब वह गर्भपात नहीं कराएगा।

बच्चा के जन्म के साथ ही उन दोनों की जिंदगी बदलने वाली है। महिला आरती देवी ने बताया कि तब वह नहीं समझ सकी थी कि पति ने क्या खिचड़ी पकाई है। दरअसल कोख में बच्चा आया तभी पति ने उस संबंधी से सौदा कर लिया था। बताया गया कि सदर थाना क्षेत्र का रहने वाला बच्चा का खरीदार व नीतीश के दूर का संबंधी निसंतान है। शादी के 20 साल बाद भी उसे कोई संतान नहीं हुआ। उसने ही आरती के इलाज से लेकर डिलेवरी तक का खर्चा उठाया था।

महिला की फरियाद पर लोगों को आया गुस्सा
घटना गुरुवार सुबह की है। बिदुपुर थाना क्षेत्र के सिंधिया कमाल निवासी नीतीश कुमार की पत्नी आरती देवी डिलेवरी के लिए मंगलवार को हाजीपुर सदर अस्पताल आई थी। उसका पति नीतीश निखट्‌टू व बेरोजगार है। कुछ ही देर बाद नीतीश अपने किसी रिश्तेदार के साथ सदर अस्पताल आया था। प्राईवेट अस्पताल में प्रसव के लिए ले जाने की बात कहकर यहां से ले गया। उसे नवीन सिनेमा रोड स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया था।

मंगलवार की रात में ही आरती ने पुत्र को जन्म दिया। गुरुवार की सुबह में पति नीतीश अपने संबंधी के साथ कार में आया और पत्नी से बच्चा देने को कहा था। बच्चे को देने के बाद आरती चिल्ला उठी। वह वार्ड में भर्ती मरीजों, अस्पतालकर्मियों से गुहार लगाने लगी कि कोई उसके बच्चे को बचा ले। वह किसी कीमत पर अपना बच्चा नहीं देगी। उसकी पुकार सुनकर मरीज व अटेंडेंट के साथ आसपास के लोग आक्रोशित हो उठे। लोगों का आक्रोश देखते ही बच्चा लेने आया खरीदार व उसका पति वहां से निकल गया।

सवालों के घेरे में पुलिस व नर्सिंग होम
महिला की पुकार पर नर्सिंग होम में भर्ती मरीज, उनके परिजन व स्थानीय लोगों ने मानवता का क्षणिक फर्ज निभा दिया। लोगों का आक्रोश देखकर खरीदार व अपने ही पुत्र का सौदा करने वाला पिता तत्काल वहां से खिसक गया। मौके पर मीडियाकर्मी भी पहुंचे थे। महिला ने उन सभी को भी आपबीती सुनाई। कुछ ही देर बाद पता किया गया तो महिला व उसका बच्चा वहां से गायब था। हैरत की बात यह कि जिस समय हंगामा हो रहा था कुछ अप्रिय घटित होने की आशंका को देखते हुए स्थानीय लोगों ने नगर थाना की पुलिस को भी सूचना दी पर पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।

सेरोगेट मदर या बच्चा किसी को भी देना गैर कानूनी: सीएस
सीएस डॉ. इन्द्रदेव रंजन ने कहा कि सेरोगेट मदर या बच्चा किसी को भी देना गैर कानूनी है। अगर यह सब निजी नर्सिंग होम में चल रहा है तो यह गलत है। मामला सामने आने पर संज्ञान लेकर कार्रवाई की जाएगी।

Recent Posts

%d bloggers like this: