October 22, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

किशन हत्याकांड की गुत्थी सुलझी चचेरा भाई ही निकला हत्यारा ।

पूर्णिया :- 11 अप्रैल को डगरुआ थाना क्षेत्र के ठाठोल पंचायत स्थित डुमरा गांव के शिव नारायण साह का 14 वर्षीय पुत्र किशन घास लाने खेत गया था। देर रात तक घर नहीं पहुंचने पर परिजनों ने काफी खोजबीन की। 12 अप्रैल को मक्का के खेत से उसका शव मिला था। शव को देखने से प्रथमदृष्ट्या हत्या का मामला प्रतीत हो रहा था।

हत्या से पहले कोई दुश्मनी नहीं थी ।

हत्या से पहले मृतक और हत्यारे भाई में किसी तरह का कोई आपसी दुश्मनी नहीं था और ना ही कोई आपसी विवाद था। दोनों भाई में मक्का के पत्ता तोड़ने को लेकर पहले तू तू मैं मैं हुआ फिर हाथापाई। हाथापाई के दौरान मारपीट फिर गला दबा कर हत्या कर दी गई ।

हत्या के मामले में 15 दिन के अंदर डगरुआ पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली। एसपी विशाल शर्मा के नेतृत्व में टीम गठित कर मामले का उद्भेदन किया गया। हत्या के मामले में गिरफ्तार अभियुक्त ने हत्या करने का आरोप स्वीकार कर लिया है। उसे जेल भेज दिया गया है। इस सबंध में आरक्षी अधीक्षक विशाल शर्मा ने बताया कि मृतक के पिता ने 12 अप्रैल को डगरुआ थाना में एक लिखित आवेदन दिया। इसमें बताया गया कि मेरा पुत्र किशन कुमार खेत देखने गया था। लेकिन देर रात वापस नहीं लौटा। 11 अप्रैल की देर रात तक खोजबीन हुई। 12 अप्रैल को जब खोजबीन की गई, तो किशन मक्के के खेत में मृत अवस्था में पाया गया। उसके नाक, कान से खून बह रहा था ।

घटना के आलोक में एसपी विशाल शर्मा ने दिशा निर्देश देते हुए विशेष टीम का गठन किया। टीम द्वारा त्वरित गति से अनुसंधान किया जाने लगा तथा किशन के बारे में काफी जानकारी अपने गुप्तचरों के द्वारा ली गई। इसी क्रम में एक अहम जानकारी हुई कि जिस समय किशन अपने मक्के के खेत में गया था, ठीक उससे कुछ देर बाद डुमरा निवासी एक व्यक्ति का एक 17 वर्षीय पुत्र उसी रास्ते से काफी घबराते हुए आते देखा गया था। तथा घटना के बाद वह लड़का कहीं नहीं दिख रहा था। इस जानकारी के आधार पर पुलिस टीम द्वारा लड़के के पिता से पूछताछ की गई। जिसमें अपने स्वीकारोक्ति बयान में कहा कि मैंने किशन से पूछा कि मेरे खेत से मक्के का पत्ता क्यों तोड़ा इतना कहने पर ही किशन मुझे आकर पेट में मारने लगा। जिस पर मुझे काफी गुस्सा आया और मैंने किशन पर जवाबी हमला कर दिया। फिर वह नीचे गिर गया, तब मैंने उसके गर्दन को दबाते हुए उसके सिर को मिट्टी में रगड़ कर उसे मार दिया। मारने के बाद उसे कंधे पर उठाकर वहां से 50 मीटर दूर ले जाकर फेंक दिया। और वहां से हम भाग गए। वहीं थानाध्यक्ष मिथलेश कुमार ने बताया कि वैज्ञानिक अनुसंधान के दौरान मामले का उजागर हुआ। वहीं पीड़ित परिजनों ने आरोपी को सख्त से सख्त सजा देने की मांग की है।

Recent Posts

%d bloggers like this: