October 26, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आदिवासी टोला बड़ासुहागी इनदिनों महानंदा नदी कटाव से त्रस्त है।

किशनगंज। प्रखंड सीमा से सटे ठाकुरगंज प्रखंड के दुधऔंटी पंचायत स्थित वार्ड संख्या 13 के आदिवासी टोला बड़ासुहागी इनदिनों महानंदा नदी कटाव से त्रस्त है। प्रतिदिन होने वाले नदी के कटाव से ग्रामीणों की चिता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। गांव से महानंदा नदी की दूरी महज 100 फीट रह गई है। यदि समय रहते कटावरोधी कार्य नहीं कराया गया तो गांव मे बसे लगभग 60 परिवारों का घर नदी के कटाव का शिकार होकर नदी में विलीन हो सकता है। ग्रामीनो ने बताया कि इस गांव के किसानों की लगभग 40 एकड़ खेती योग्य जमीन नदी के गोद मे समा गई है । कल लोग खेती बारी कर अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे। आज वह मजदूरी करने को मजबूर हैं । गांव के सात परिवारों का घर नदी के भेंट चढ़ चुका है। जिस वजह से कटान का दंश झेलने वाले पीड़ित परिवार अन्य जगहों की ओर पलायन कर चुके हैं। एक ओर जहाँ केंद्र और राज्य सरकार द्वारा अनुसूचित जाति व जनजातियों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है। वहीं दूसरी ओर आज तक जिला प्रशासन द्वारा इस गांव को नदी कटाव से बचाने के लिए कोई सकारात्मक पहल नहीं किया गया। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि घर नदी के किनारे होने के कारण हर साल बाढ़ का दंश झेलना पड़ रहा है। जिसकी वजह से प्रतिवर्ष संपत्ति सहित जानमाल का भी नुकसान उठाना पड़ता है। गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर जाने से हर साल व्यापक क्षति होती है। बताते चलें कि आदिवासी टोला बड़ासुहागी गांव के आगे से प्रधानमंत्री सड़क और प्राथमिक विद्यालय है, जो गांव की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। लेकिन गांव के पश्चिम छोड़ पर नदी का अनवरत कटाव होने से ग्रामीण काफी चितित है। इसके अलावे गांव में कई अन्य मूलभूत समस्याएं है।जिसका निदान जरूरी है ।समय रहते यदि कोई सकारात्मक पहल नही की गई तो आने वाले दिनों में पूरे गांव का अस्तित्व ही मिट जाएगा । पता चला है कि ग्रामीणों ने जिलाधिकारी सहित जल निस्सरण विभाग का ध्यानाकृष्ट कराते हुए जल्द कटावरोधी कार्य कराए जाने का निवेदन भी किया है ।ग्रामीणों की तरसती आंखे सरकारी सहायता की वाट जोह रही है ।

Recent Posts

%d bloggers like this: