December 2, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

राँची का राजन पटना के दो भाइयों के साथ करता था करोड़ों की चोरी, RPF ने किया गिरफ्तार

झारखंड के चक्रधरपुर मंडल की रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने ट्रेन में चोरी करने वाले हाई प्रोफाइल गैंग का पर्दाफाश किया है। गैंग के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर आरपीएफ ने 2.23 करोड़ रुपये नकद भी बरामद किये हैं। गिरफ्तार किये गये चोर रांची और पटना के रहने वाले हैं। फर्स्ट एसी और सेकेंड एसी कोच में चोरी के दो मामले गुजरात के अहमदाबाद और पश्चिम बंगाल के हावड़ा स्टेशन पर दर्ज कराये गये थे। शिकायतों की गहन जांच के बाद आरपीएफ ने गैंग के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से 2.23 करोड़ रुपये नकद बरामद किये। चक्रधरपुर मंडल के मुताबिक, 19.01.2019 को हावड़ा-पोरबंदर आराधना सुपरफास्ट एक्सप्रेस (ट्रेन नं. 2906) के A1 बोगी से दो ट्रॉली बैग की चोरी हो गयी। बैग में सोने के गहने एवं 25 हजार नकद सहित कुल 2.79 लाख रुपये की चोरी की शिकायत (Case No.00/19 dt 23.01.19 u/s 379 IPC) अहमदाबाद के जीआरपी कार्यालय में दर्ज करायी गयी। दूसरी शिकायत (Case no.00/19 dt. 10.03.19 u/s 379 IPC) हावड़ा स्टेशन पर जीआरपी में दर्ज करायी गयी। 03.03.2019 को दर्ज करायी गयी एफआईआर में हावड़ा-पोरबंदर आराधना सुपरफास्ट एक्सप्रेस (ट्रेन संख्या. 2906) में सवार A1-13 सीट के यात्री ने बताया कि टाटा और राउरकेला के बीच किसी ने 3.14 करोड़ रुपये की चोरी कर ली। चोर गिरोह का पर्दाफाश करने के बाद आरपीएफ ने बताया कि पीड़ित पक्षों ने की शिकायत के आधार पर राउरकेला के पोस्ट इंचार्ज एवं RPF की टीम ने आरक्षण चार्ट एवं CCTV फुटेज को खंगाला। इसके बाद एक व्यक्ति को टार्गेट किया गया। CCTV फुटेज से प्राप्त बैग और संदिग्ध व्यक्ति का फोटो शिकायत कर्ता को भेजकर मिलान कराया गया। शिकायत कर्ता के द्वारा संदिग्ध की पहचान के बाद हर दिन उस संदिग्ध पर पैनी नजर रखा जाने लगा। आरपीएफ ने बताया कि 21 मार्च, 2019 को वही संदिग्ध दो अन्य साथियों के साथ राउरकेला के दो-तीन नंबर प्लेटफॉर्म पर देखा गया। आरपीएफ ने तीनों को पकड़कर उनसे पूछताछ की। दोनों ने चोरी में अपनी संलिप्तता स्वीकार की। इनके बैग की तलाशी लेने पर उसमें से 2 करोड़ 23 लाख रुपये मिले। मुख्य अभियुक्त का नाम राजन श्रीवास्तव है, जो रांची का रहने वाला है। पकड़े गये इसके दो अन्य दो साथी पटना के रहने वाले हैं। ये दोनों सगे भाई हैं। ये तीनों पूरे देश में AC-2 में रिजर्वेशन करवाकर यात्रा करते हैं और ट्रेन से मालदार लोगों के बैग लेकर उतर जाते हैं। अभियुक्त के पास से 17 टिकट (2nd AC) मिले हैं, जो पूरे देश में अग्रिम यात्रा के लिए हैं. आरपीएफ का कहना है कि कई बड़ी चोरियों में इस गैंग की संलिप्तता सामने आ सकती है। इनसे पूछताछ की जा रही है। PC/RPF/राउरकेला ने आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए तीनों अभियुक्तों को 2.23  करोड़ रुपये के साथ GRP राउरकेला के हवाले कर दिया है। 19 जनवरी, 2019 की घटना के लिए राउरकेला में GRPS/ROU case No.18/19 dt 23.02.19 u/s 379 IPC तथा तीन मार्च, 2019 की घटना हेतु झारसुगुड़ा में GRPS/Jharsuguda case No.26/19 dt 20.03.19 u/s 379 IPC दर्ज कर लिया गया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: