October 24, 2020

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

झारखंड के उग्रवादियों के पास म्यांमार आर्मी के हथियार पहुंच रहे ।

राजधानी रांची, लातेहार और बोकारो में इन दिनों नागालैंड से अत्याधुनिक हथियारों की तस्करी हो रही है। एके-47, एके-56, कारबाइन सहित कई तरह के हथियार झारखंड के पीएलएफआइ (पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट आफ इंडिया), टीपीसी (तृतीय प्रस्तुति कमेटी) सहित अन्य उग्रवादी संगठनों के पास पहुंच रही है। इन हथियारों को नागालैंड के फर्जी आ‌र्म्स लाइसेंस के माध्यम से बिहार और झारखंड तक लाया जा रहा है। आश्चर्य की बात है कि ये हथियार म्यांमार सेना की है।

बिहार और झारखंड पुलिस यह पता लगाने में जुट गई है कि आखिर ये हथियार म्यांमार सेना जवानों के पास से कैसे निकल रहे हैं। बता दें कि इन हथियारों की तस्करी का मामला तब खुला जब बिहार के पूर्णिया पुलिस ने गैंग के मास्टरमाइंड मुकेश सिंह को रांची के अरगोड़ा से गिरफ्तार किया। वह झारखंड के नक्सलियों व उग्रवादियों को हथियारों के साथ बुलेटप्रूफ जैकेट भी सप्लाई कर रहा था। मुकेश रांची के अरगोड़ा बस्ती में छुपकर रह रहा था। मुकेश के दो साथी भी पकड़े गए हैं।

उग्रवादियों तक सप्लाई होने वाली बुलेटप्रूफ जैकेट दो लाख रुपये और एके-47 8.50 लाख रुपये में पहुंच रही है। वहीं 1.20 लाख रुपये में ये नागालैंड के फर्जी आ‌र्म्स लाइसेंस भी बनवा देते थे।

पुलिस झारखंड में पूर्व में मिले आधुनिक हथियारों की जांच कर रही है। बीते छह नवंबर को रांची और लातेहार बॉर्डर से पुलिस से एके-47, तीन एसएलआर, अंडर बैरेल ग्रेनेड लांचर, इंसास रायफल के साथ चार टीपीसी उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया था। उनके पास से 1576 गोलियां भी मिली थी। पुलिस इसका नागालैंड कनेक्शन खंगालने में जुट गई है।

Recent Posts

%d bloggers like this: