अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रिम्स में आधारभूत संरचना के लिए 1300 करोड़ की कार्ययोजना स्वीकृत


रिम्स में कार्यरत डॉक्टरों की प्राईवेट प्रैक्टिस की जांच गुप्तचर एजेंसी से करायी जाएगी
रांची:- झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में आधारभूत संरचना के विकास के लिए 1300 करोड़ रुपये की कार्ययोजना को मंजूरी दी गयी। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता की अध्यक्षता में सोमवार को रिम्स शासी परिषद की 52वीं बैठक में 22 एजेंडों पर चर्चा के बाद सहमति बनी। बन्ना गुप्ता ने बताया कि शासी परिषद की बैठक में लिये गये निर्णय पर कैबिनेट में चर्चा होगी और फिर अंतिम निर्णय लिया जाएगा।
डॉक्टरों निजी प्रैक्टिस की जांच गुप्तचर एजेंसी से
रिम्स शासी परिषद की बैठक समाप्त होने के बाद संवाददाता सम्मेलन में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने बताया कि रिम्स में कार्यरत डॉक्टरों की प्राईवेट प्रैक्टिस की जांच गुप्तचर एजेंसियों से करायी जाएगी। गुप्तचर एजेंसी की जांच की प्रक्रिया चल रही है।
असहाय-गरीब मरीजों के इलाज के लिए विशेष प्रावधान
रिम्स आने वाले असहाय और गरीब मरीजों के लिए विशेष प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि कुछ ऐसे मरीज भी आते है, जिनके पास आधार कार्ड या अन्य प्रमाण पत्र नहीं होता है, लेकिन उन्हें तत्काल इलाज की जरूरत है। इसलिए विभागाध्यक्ष, चिकित्सा पदाधिकारी और अधीक्षक को 50 हजार रुपये तक की छूट देने का प्रावधान किया गया। वहीं रिम्स निदेशक को साल में 50 हजार से 1 लाख रुपये और विभागीय मंत्री को 1 से 5 लाख रुपये तक स्वीकृत करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गयी है।
बैठक में ये उपस्थित थे
बैठक में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, स्वास्थ्य सचिव अरुण कुमार सिंह, रिम्स निदेशक डा कामेश्वर प्रसाद, रिम्स अधीक्षक डॉ विवेक कश्यप, सांसद संजय सेठ, विधायक समरी लाल और कई अधिकारी शामिल हुए ।
ओपीडी के लिए नया 5 मंजिला भवन बनेगा
रिम्स में मरीजों की भीड़ से निपटने के लिए पांच मंजिला नया भवन बनाने का भी प्रस्ताव है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि रिम्स के ओपीडी में प्रतिदिन 2 से ढ़ाई हजार मरीज आते है, कई मौकों पर जगह की कमी के कारण अव्यवस्था का सामना करना पड़ता है, इसलिए अब पांच मंजिला भवन बनाने का निर्णय लिया गया है।
बच्चों, महिलाओं के लिए बेड बढ़ेंगे
उन्होंने बताया कि पांच अलग-अलग भवन भी बनाने के प्रस्ताव पर सहमति जतायी गयी है। जिसमें बच्चों और महिलाओं के लिए 250 से बढ़ाकर 300 बेड किये जाएंगे, जबकि सुपर स्पेशालियालिटी में भी बेड की संख्या को बढ़ाकर 750 किया जाएगा।
कई मशीनों की खरीद होगी
रिम्स में जल्द ही लंग्स के समुचित इलाज के लिए इकमो मशीन की खरीद की जाएगी। वहीं कोरोना संक्रमण के तीसरी लहर से निपटने के लिए भी कई मशीनों की क्रय की जाएगी। इसके अलावा 20 डायलिसिस मशीन पीपीपी मोड पर रिम्स में लगाया जाएगा।
10वर्ष से काम कर रहे कर्मियों का समायोजन
रिम्स में चतुर्थ श्रेणी में पिछले 10 सालों से काम कर रहे कर्मचारियों का समायोजन होगा, इसके अलावा मैन पावर बढ़ाने के मसले पर भी चर्चा हुई।

%d bloggers like this: