March 7, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

5 साल में बनाए 100 करोड़, घर की लैब में बनाते थे ड्रग्स

मुंबई:- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम का करीबी “आरिफ भुजवाला” को आखिरकार नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरों ने महाराष्ट्र के रायगढ़ से गिरफ्तार कर लिया है। पिछले बुधवार को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरों के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की टीम ने मुंबई के डोंगरी इलाके की एक बिल्डिंग में गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी की थी। सूचना मिली थी कि यहां से बड़े पैमाने पर ड्रग्स की सप्लाई की जाती है। ऐसे में जब रेड मारी गयी तो 2 करोड़ 18 लाख रुपये के साथ भारी मात्रा में अलग-अलग प्रकार के ड्रग्स बरामद हुए।
NCB ने मुंबई और आसपास के इलाकों में कई छापेमारी की, जहां गैंगस्टर करीम लाला के करीबी रिश्तेदार चिंटू पठान का गिरफ्तार किया। लेकिन डोंगरी में आरिफ के घर की गई छापेमारी की भनक आरिफ भुजवाला को लग गई और वह घटनास्थल से भागने में कामयाब हो गया। इसकी तलाश NCB को थी। उसके खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी किया, जिससे कि वह देश छोड़कर भागने न पाए।
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरों ने ड्रग्स माफियों पर लगातार नकेल कस रही हैं। एक्टर सुशान्त सिंह राजपूत की सुसाइड मिस्ट्री में ड्रग एंगल सामने आने के बाद से ही लगातार बड़ी कार्रवाई की जा रही। इसी कड़ी में बॉलीवुड ड्रग एंगल की जांच का दायरा भी लगातार बढ़ता जा रहा, जो अब अंडरवर्ल्ड तक जा पहुंचा है। NCB ने बुधवार को अंडरवर्ल्ड माफिया (मृतक) करीम लाला के करीबी रिश्तेदार चिंकू पठान को जब गिरफ्तार किया तो आरिफ भुजवाला का नाम पहली बार सामने आया। जब इसकी तलाश में मुंबई के डोंगरी इलाके में स्थित नूर मंजिल नामक इमारत में छापेमारी की तो बड़ी ड्रग की खेप और करोड़ो रुपये कैश के साथ बरामद हुई, लेकिन आरिफ पीछे की खिड़की से भागने में सफल हो गया।

NCB की टीम ने जब इस बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर रेड डाली तो अधिकारियों की आंखे खुली की खुली रह गई, क्योंकि आरिफ ने ड्रग्स बनाने का पूरा लैब बनाया था, जोकि डोंगरी पुलिस स्टेशन से महज कुछ सौ मीटर ही दूर था। भले ही आरिफ भागने में कामयाब हो गया, लेकिन यहां से 12 किलो ड्रग्स के साथ 2.18 करोड़ कैश बरामद हुए। NCB सूत्रों के मुताबिक, आरिफ ने 1500 करोड़ रुपये की कमाई ड्रग्स के सप्लाई करके की है। मिली जानकारी के मुताबिक, यह देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी ड्रग की सप्लाई करता और हवाला के जरिये कमाए गए पैसे को दुबई में बैठे अपने बॉस को पहुंचाता था।

कौन है आरिफ भुजवाला

आरिफ भुजवाला कोलंबिया के सबसे बड़े ड्रग माफिया पाब्लो एस्कोबार से काफी प्रभावित था और उसी की तरह बड़ा माफिया बनना चाहता था। यही वजह है कि इसने खुद के घर में ही ड्रग्‍स लैब बनाकर रखी थी। NCB सूत्रों के मुताबिक, इसने खुद का नाम तक पाब्लो एस्कोबार रख लिया था। ड्रग्स का बिजनेस करने के दौरान भी खुद का परिचय भी पाब्लो के नाम से देता। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरों के अधिकारियों को जांच में पता चला है कि आरिफ ने कम समय में सैंकड़ों करोड़ रुपये बनाए। यह एक किलो MD ड्रग बनाने के लिए 1 लाख रुपये तक खर्च करता, जिसके बाद पेडलर्स के जरिये इसको 8 से 10 लाख रुपये में बेचता। ड्रग्स को बनाने से लेकर पैकेजिंग तक खुद करता और फिर मार्किट में बिकवाता था।

आरिफ का दुबई कनेक्शन!

आरिफ गिरफ्तारी से कुछ समय पहले ही 2 बार दुबई से लौट चुका है। यह देश ही नहीं बल्कि विदेशों में जैसे कतर, मिडिल ईस्ट के देशों सहित दुबई में ड्रग्स की सप्लाई करता और यहां MD ड्रग्स भारी कीमत में बेचता। यह 1 किलोग्राम MD 40 लाख रुपये में बेचता था। यानी 1 लाख लगाकर 40 लाख की मोटी कमाई करता। यह ड्रग्स सप्‍लाई के लिए अलग-अलग कोडवर्ड का भी इस्तेमाल करता था, जिससे कि एजेंसिज की रडार पर न आ सके।

देश के खिलाफ ड्रग्स के पैसे का इस्तेमाल!

आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि सैंकड़ों करोड़ों रुपये में खेलने वाला आरिफ भुजवाला अनपढ़ है, लेकिन कम समय में शॉर्ट कट रास्ते से बड़ा बनने की चाहत ने इसे ड्रग्स का लॉर्ड पाब्लो एस्कोबार बना दिया। NCB के अधिकारी के मुताबिक, 5 साल पहले तक इसके पास खाने की भी पैसे नहीं रहते थे। इसी दौरान इसकी मुलाकात दुबई के एक बड़े ड्रग माफिया से हुई। उसके बाद इसने इस काले धंधे में कदम रखा। यह देश के अलग-अलग राज्यों व शहरों में अपने नेटवर्क से ड्रग्स की खेप सप्लाई करवाता था।

100 करोड़ की प्रॉपर्टी वाला आरिफ भुजवाला

इसके पास दर्जनों लक्जरी कार, जिसमें ऑडी, मर्सडीज, BMW, पजेरो, टोयोटा कार, हुंडई की कार, स्पोर्ट्स हायाबुसा बाइक है। 4 फ्लैट, 2 दुकान, 33 एकड़ खेती की जमीन (30-40 करोड़ की कीमत) महंगे इलोक्ट्रॉनिक गेजेट्स। साथ ही जिस घर मे रहता वहां ड्रग्स तैयार करता। घर के अंदर व बाहर 20 से ज्यादा हाईटेक सीसीटीवी कैमरे हैं, जिससे हर मूवमेंट पर नजर रख सके। NCB ने छापेमारी में 1 कार और दो बाइक जब्त किए हैं।

ड्रग्स के काले खेल का दूसरा सिकंदर परवेज पठान उर्फ “चिंकू पठान”

NCB ने बुधवार को जब छापेमारी की तो चिंकू पठान को गिरफ्तार किया, इसके भी लिंक अंडरवर्ड से जुड़े है। यह आरिफ भुजवाला के लिए काम करता था। इसको सोना पहनने का बड़ा शौक है। यह तकरीबन 5 से 6 किलो सोना पहनता और लोगों को अपनी पहचान के रूप में खुद को बड़ा बिजनेसमैन बताता। इसके नीचे 30 लोग काम करते थे। यह आरिफ के इशारे पर एक शहर से दूसरे शहर में ड्रग्स की खेप पहुंचाता।

चिंकू पठान की तस्‍वीरों को देख का अंदाजा लगाया जा सकता कि सोने का सिंहासन, सोने का मोबाइल, सोने का लाइटर के साथ-साथ शरीर पर 5 किलो सोना पहले हुए है। मिली जानकारी के मुताबिक, रात को सोने के दौरान भी यह सोना पहनकर सोता था। यह अपने गुर्गों व लोगों का कहता था कि मुझे गोल्ड डॉन कहकर बुलाया करो। चिंकू पठान के ऊपर मुंबई पुलिस के अंतर्गत कई आपराधिक मामले दर्ज है। यह भी डोंगरी की लैब से ड्रग्स की सप्लाई करता, जिसके लिए इसने कोड वर्ड तैयार किया था।

चिंकू पठान का कोडवर्ड

चिंकू मलाना नामक महंगी ड्रग की सप्लाई करता था। यह कोडाना शब्द “आइसक्रीम” के साथ मलाना ड्रग्स की तस्करी करता था।

– कोकीन: पत्थर

– एमडी: सफेद

– मेथ: क्रिस्टल

– एमडीएमए: क्रीम

आरिफ भुजवाला की गिरफ्तारी के बाद अंडरवर्ल्ड के ड्रग कनेक्शन का पर्दाफाश हुआ है कि कैसे दाऊद और उसके गुर्गे आज भी ड्रग्स के धंधे में सक्रिय है। NCB ने इस केस में कुल 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। NCB की कार्रवाई इस केस में बहुत बड़ी मानी जा रही है कि दाऊद इब्राहिम के इलाके में घुसकर NCB मुंबई के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो इस बात की जांच में जुटी हुई है कि कहीं ड्रग के धंधे से मोटी कमाई करके देश विरोधी ताकतों को यह पैसे तो हवाला के जरिये नहीं पहुंचाए जा रहे थे।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: